दुर्गाभक्तितरंगिणी (विद्यापति)  

Disamb2.jpg दुर्गाभक्तितरंगिणी एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- दुर्गाभक्तितरंगिणी

दुर्गाभक्तितरंगिणी महाकवि विद्यापति द्वारा रचिक एक ग्रंथ हैं।

  • दुर्गाभक्तितरंगिणी ग्रन्थ को दुर्गोत्सव पद्धति के नाम से भी जाना जाता है।
  • इस ग्रन्थ की रचना महाराज भैरवसिंह की आज्ञा से हुई थी।
  • दुर्गाभक्तितरंगिणी में मुख्यत: कालिकापुराण, देवीपुराण, भविष्य पुराण, ब्रह्म पुराण और मार्कण्डेय पुराण से दुर्गा पूजा की पद्धति के विषय में प्रमाणों का प्रकरणानुसार संग्रह किया गया है।
  • यह एक अनुपम ग्रन्थ है जो महाकवि विद्यापति ठाकुर का शक्ति के ऊपर अपार श्रद्धा का परिचायक है।
  • यह ग्रंथ विद्यापति द्वारा प्रणीत है। यह उनका अंतिम ग्रंथ है।
  • नरसिंह के पुत्र धीरसिंह एवं उसके भाई भैरवेन्द्र (यहाँ रूपनारायण, यद्यपि अन्यत्र हरिनारायण नाम आया है) की प्रशंसा है।[1]
  • यह ग्रंथ लगभग 1438 में निर्मित और कलकत्ता में सन् 1909 में प्रकाशित है।



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. देखिए इण्डि. ऐण्टी., जिल्द 14, पृष्ठ 193

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दुर्गाभक्तितरंगिणी_(विद्यापति)&oldid=313900" से लिया गया