दृष्टवाद  

शब्द संदर्भ
हिन्दी एक दार्शनिक सिद्धान्त जिसमें केवल प्रत्यक्ष क्रियाओं, घटनाओं, चीज़ों आदि की सत्ता मानी जाती है, आत्मा, परमात्मा, स्वर्ग आदि अदृश्य चीज़ों की सत्ता नहीं मानी जाती।
-व्याकरण    पुल्लिंग
-उदाहरण  
-विशेष   
-विलोम   
-पर्यायवाची   
संस्कृत दृष्ट सामान्यत: वाद
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द दृष्ट, दृष्टकूट, दृष्टफल, दृष्टवत, दृष्ट दोष, दृष्टांत, दृष्टार्थ
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दृष्टवाद&oldid=180104" से लिया गया