धूल पर धूल डालना  

धूल पर धूल डालना एक शिक्षाप्रद कहानी है।

राँका-बाँका पति-पत्नी थे। वे दोनों बड़े प्रभु भक्त और विश्वासी थे। भगवान ने एक दिन राँका-बाँका की परीक्षा लेने की ठानी। एक दिन राँका-बाँका लकड़ी लाने जंगल को जा रहे थे। राँका आगे-आगे चल रहा था। बाँका पीछे आ रही थी। राह में किसी चीज़ की राँका को ठोकर लगी। उसने सोने की मोहरों से भरी हुई एक थैली देखी। राँका उसे देखकर जल्दी-जल्दी उस पर धूल डालने लगा। इतने में बाँका आ पहुँची। उसने राँका से पूछा क्या कर रहे हो? राँका ने पहले तो नहीं बताया, पर बाँका के विशेष आग्रह करने पर राँका ने उससे कहा मुझें एक सोने की मोहरों से भरी थैली मिली जिस पर तुम्हें देखकर धूल डाल रहा था। मैंने समझा इन पर कहीं तुम्हारा मन न आ जाय। इसलिये इन्हें धूल डालकर ढक रहा था। बाँका ने हँसकर कहा वाह 'धूल पर धूल डालने से क्या लाभ है? सोने में और धूल में भेद ही क्या है, जो आप इन्हें ढक रहे हैं।'

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धूल_पर_धूल_डालना&oldid=490906" से लिया गया