धृत  

शब्द संदर्भ
हिन्दी धारण/ गृहण किया हुआ, पकड़ा हुआ, बन्दी किया हुआ, रखा हुआ, गिरा हुआ, पतित, अधिकृत किया हुआ, हाथ से धरा या पकड़ा हुआ, गिरफ्तार किया हुआ, निश्चित या स्थिर क्रिया हुआ, कुश्ती लड़ने का एक ढंग, तेरहवें मनु रौच्य के पुत्र का नाम, पुराणानुसार द्रुह्य-वंशीय धर्म का एक पुत्र।
-व्याकरण    विशेषण, धातु, पुल्लिंग
-उदाहरण  

जलज बिलोचन स्यामल गातहि । पलक नयन इव सेवक त्रातहि ॥
धृत सर रुचिर चाप तूनीरहि। संत कंज बन रबि रनधीरहि ॥-- तुलसीदास (रामचरितमानस, 7/30/2)

-विशेष   
-विलोम   
-पर्यायवाची    अधिग्रहीत, अधिकृत, अधिगत, धृत, स्वयमधिगत, हथियाया
संस्कृत [धृ (धारण)+क्त]
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द हृति
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धृत&oldid=132264" से लिया गया