न रहेगा बाँस, न बजेगी बाँसुरी  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
  • यह लोकोक्ति एक प्रचलित कहावत है।
  • इसका अर्थ - मूल कारण को मिटा दें, तो झगड़ा–फसाद ही न हो।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=न_रहेगा_बाँस,_न_बजेगी_बाँसुरी&oldid=168115" से लिया गया