पलशालैमुडुकुड़मी  

  • वेलविकुडी दान पत्र के उल्लेख के आधार पर पलशालैमुडुकुड़मी को पाण्ड्य राजवंश का प्रथम ऐतिहासिक शासक माना जाता है।
  • अनेक यज्ञों का अनुष्ठान करवाने के कारण ही उसे 'पलशालै', यानि 'अनेक यज्ञशालायें बनाने वाला' कहा गया है।
  • वह अपने द्वारा जीते गये राज्यों के साथ कठोरता का व्यवहार करता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पलशालैमुडुकुड़मी&oldid=159794" से लिया गया