पाल मूर्तिकला शैली  

पाल शैली की विशेषता इसकी मूर्तियों में परिलक्षित अंतिम परिष्कार है। बिहार और बंगाल के पाल और सेन शासकों के समय में[1] बौद्ध और हिंदू दोनों ने ही सुंदर मूर्तियाँ बनाई।

  • इन मूर्तियों के लिए काले बैसाल्ट पत्थरों का प्रयोग किया गया है।
  • मूर्तियां अतिसज्जित और अच्छी पॉलिश की हुई हैं, मानो वे पत्थर की न होकर धातु की बनी हों।
  • पाल शैली की प्रस्तर मूर्तियाँ नालंदा, राजगीर और बोधगया में मिलती हैं।
  • मूर्ति शिल्प की दृष्टि से नालंदा कला के तीन चरण माने गए हैं:
  1. बुद्ध और बोधिसत्व की मूर्तियों का महायान चरण
  2. सहजयान मूर्तियाँ
  3. अंतिम कापालोक प्रणाली का कलाचक्र


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 8से 12वीं सदी

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पाल_मूर्तिकला_शैली&oldid=502255" से लिया गया