ब्रज साहित्य मंडल, मथुरा  

ब्रज साहित्य मंडल की स्थापना मथुरा, उत्तर प्रदेश में 2 अक्टूबर, 1940 में हुई थी। इसका उद्देश्य बृहत्तर ब्रज क्षेत्र की भाषा, कला, साहित्य, संस्कृति, इतिहास की रक्षा और अनुसन्धान आदि हैं।[1]

  • सात सदस्यों की एक समिति के द्वारा इसका संचालन किया जाता है। 'ब्रज-भारती' त्रैमासिक पत्रिका का प्रकाशन भी होता है।
  • ग्राम-साहित्य के संकलन का महत्त्वपूर्ण कार्य भी सम्पन्न हुआ है। हस्तलिखित ग्रंथों की खोज की जाती है।
  • इसके प्रचार के लिए ब्रज क्षेत्र में अनेक केन्द्र खोले गये हैं। वार्षिक सम्मेलन, कवि सम्मेलन तथा अन्य प्रचारात्मक योजनाएँ क्रियांवित की जाती हैं।
  • 'भारतेन्दु कलश', 'ताम्रपत्र' तथा 'श्रीनिवास पुरस्कार' समय-समय पर दिये जाते हैं।
  • 'ब्रज-विद्यापीठ', इसके तीन उप-विभाग हैं- संग्रह, शोध, परीक्षा।
  • ब्रजभाषा-व्यावकरण तैयार किया जा चुका है। 'सूर सागर' के वैज्ञानिक सम्पादन की भी योजना बनायी गयी थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी साहित्य कोश, भाग 2 |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |संपादन: डॉ. धीरेंद्र वर्मा |पृष्ठ संख्या: 395 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ब्रज_साहित्य_मंडल,_मथुरा&oldid=524439" से लिया गया