मिताक्षरा  

मिताक्षरा संस्कृत भाषा में धर्मशास्त्र का[1] प्रसिद्ध ग्रन्थ है। इसका प्रणयन 'विज्ञानेश्वर' ने किया था, जो चालुक्यों की राजधानी कल्याणी में विक्रमादित्य चालुक्य (1076-1126 ई.) के राज्य काल में रहता था।

  • बंगाल तथा आसाम के अतिरिक्त शेष भारत में हिन्दू क़ानून के विषय में 'मिताक्षरा' को प्रमाण माना जाता है।
  • उत्तराधिकारी के सम्बन्ध में इसमें आधारभूत सिद्धांत प्रतिपादित किये गए हैं।
  • इसमें बताया गया है कि हिन्दू परिवारों में समस्त पैतृक सम्पत्तियों में पुत्र पिता का सहभागी होता है।
  • उसे अपनी स्वीकृति के अतिरिक्त अन्य किसी रीति से उत्तराधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 363 |

  1. याज्ञवल्क्य स्मृति का व्याख्यान रूप

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मिताक्षरा&oldid=522924" से लिया गया