मूत्र  

मूत्र मानव तथा दूसरे कशेरुकी जीवों में वृक्क द्वारा स्रावित एक तरल अपशिष्ट उत्पाद को कहा जाता है।

  • कई प्रकार के अपशिष्ट यौगिकों का निर्माण कोशिकीय चयापचय के फलस्वरूप होता है। इन यौगिकों में नाइट्रोजन की मात्रा अधिक हो सकती है। इनका रक्त परिसंचरण तंत्र से निष्कासन अति आवश्यक होता है, अन्यथा ये शरीर को कई प्रकार से प्रभावित करते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मूत्र&oldid=513536" से लिया गया