मूलराज प्रथम  

मूलराज प्रथम (942-995 ई.) गुजरात में अन्हिलवाड़ के सोलंकी (चालुक्य) राज्यवंश का प्रवर्तक था। सर्वप्रथम अपने राज्य को स्वतंत्र राजसत्ता मूलराज ने ही प्रदान की थी।

  • मूलराज ने अन्हिलवाड़ को अपनी राजधानी बनाया और उसका समुचित विकास किया।
  • सम्भवत: मूलराज कन्नौज के शासक महिपाल (910-940 ई.) का पुत्र था।
  • अजमेर के चौहान शासक विग्रहराज द्वितीय के साथ हुए युद्ध में मूलराज वीरगति को प्राप्त हुआ।
  • मूलराज के बाद उसका पुत्र चामुण्डराय (995-1008 ई.) अन्हिलवाड़ का शासक रहा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मूलराज_प्रथम&oldid=525335" से लिया गया