रॉबर्ट ब्रूस फुट  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"

रॉबर्ट ब्रूस फुट (जन्म - 1834; मृत्यु - 1912) ब्रिटिश भूगर्भशास्त्री और पुरातत्ववेत्ता थे। उन्हें अक्सर भारत के प्रागैतिहासिक अध्ययन का संस्थापक माना जाता है।

24 वर्ष की आयु में फ्रुट भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग में शामिल हो गए। जिसमें वह 33 वर्ष रहे। 1862 में पुरातात्विक सर्वेक्षण की स्थापना के बाद उन्होंने भारत में प्रागैतिहासिक मानव अवशेषों का प्रथम सिलसिलेवार शोध कार्य शुरू किया और 1863 में यहां हाथ की कुल्हाड़ियों की पहली खोज की, उत्खनन- सुविधा के बिना ही सिर्फ़ सतह पर मौजूद अवशेषों और क्षेत्रों के अवलोकन से वह भारत के प्रागैतिहासिक काल की काफ़ी हद तक सटीक पुनरर्चना कर पाते थे। यूरोपीय समदर्शों के अनुरूप उन्होंने प्रमुख सांस्कृतिक कालखंडों को पुरापाषाण, नवपाषाण और लौह युग की संज्ञा दी। 1903 में भारत के मद्रास संग्रहालय ने प्रागैतिहासिक युग की वस्तुओं के उनके विशाल संग्रह को ख़रीद लिया। उनकी कृति कैटेलॉग रेसी (1914; वर्गीकृत सूची) और इंडियन प्रिहिस्टॉरिक ऐंड प्रोटोहिस्टॉरिक आर्टिफ़ैक्ट्क (1916) में भारतीय प्रागैतिहासिक काल के बारे में उनके वर्षों के शोध का सार और रूपरेखा है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रॉबर्ट_ब्रूस_फुट&oldid=268058" से लिया गया