लक्ष्मण सेन  

  • बल्लाल सेन का उत्तराधिकारी लक्ष्मण सेन 1178 ई. में राजगद्दी पर बैठा।
  • उसका शासन सम्पूर्ण बंगाल पर विस्तृत था।
  • कुछ समय तक उसके राज्य सीमा दक्षिण-पूर्व में उड़ीसा और पश्चिम में वाराणसी, इलाहाबाद तक थी।
  • उसके शासनकाल के अन्तिम चरण में उसके कई सामन्तों ने विद्रोह करके स्वतंत्र राज्य की स्थापना कर ली।
  • 1202 ई. में इख़्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार ख़िलजी ने लक्ष्मण सेन की राजधानी लखनौती पर आक्रमण कर उसे नष्ट कर दिया।
  • इस घटना का वर्णन मिनहाज ने 'तबकाते-नासिरी' में किया है।
  • लक्ष्मण सेन स्वयं विद्वान था। उसने बल्लाल सेन द्वारा प्रारम्भ किये गये 'उद्भुत सागर' नामक ग्रन्थ की रचना को पूरा किया।
  • श्रीधरदास उसका दरबारी कवि था।
  • इसके अतिरिक्त जयदेव, जलायुध, धोई तथा गोवर्धन उसके दरबार को सुशोभित करते थे।
  • हलायुध उसका प्रधान न्यायाधीश तथा मुख्यमंत्री था।
  • लक्ष्मणसेन वैष्णव धर्म का अनुयायी था।
  • लेखों में उसे 'परम भागवत' की उपाधि प्रदान की गयी है।
  • लक्ष्मणसेन के बाद विश्वरूप सेन तथा केशव सेन कमज़ोर उत्तराधिकारी के रूप में शासन किये।
  • लक्ष्मणसेन के राजदरबार में गीत गोविन्द के लेखक जयदेव, ब्राह्मण सर्वस्व के लेखक हलायुध एवं 'पवनदूतम्' के लेखक धोई रहते थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=लक्ष्मण_सेन&oldid=528594" से लिया गया