लास्य  

शब्द संदर्भ
हिन्दी नृत्य, नाच, गायन-वादन के साथ नृत्य, स्त्री-नृत्य जिसमें प्रेम-भाव प्रदर्शित किया जाता है, एक प्रकार का तंत्रिका-विकार जिसमें प्राय: सारे शरीर में झटका सा लगने की अनैच्छिक गतियाँ होती हैं।
-व्याकरण    पुल्लिंग
-उदाहरण  

मादक सुगंध से भरी, पंथ-पंथ आम्र मंजरी, कोयलिया कूक कूक कर, इठलाती फिरे बावरी।
जाती है जहाँ दृष्टि, मनहारी सकल सृष्टि, लास्य दिगदिगंत छा गया देखो वसंत आ गया।।

-विशेष    लास्य वह नृत्य कहलाता है, जिसमें कोमल अंग-भंगियों के द्वारा मधुर भावों का प्रदर्शन होता है, और जो श्रृंगार आदि कोमल रसों को उद्दीप्त करने वाला होता है। इसमें गायन तथा वादन दोनों का योग रहता है।
-विलोम   
-पर्यायवाची    नचन, रास, गीत, संगीत
संस्कृत लस्+ण्यत्
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=लास्य&oldid=607368" से लिया गया