विवर्ण  

शब्द संदर्भ
हिन्दी जिसका कोई रंग न हो, रंगहीन, जिसका रंग बिगड़ गया हो, कांति-हीन, रंग-बिरंगा, जो किसी वर्ण के अन्तर्गत न हो अर्थात जाति-च्युत
-व्याकरण    विशेषण, पुल्लिंग
-उदाहरण  

वह विवर्ण मुख त्रस्त प्रकृति का हँसने लगा आज फिर से -- जयशंकर प्रसाद

-विशेष    विवर्ण साहित्य में एक भाव है जिसमें भय, मोह, क्रोध, लज्जा आदि के कारण नायक और नायिका के मुख का रंग बदल जाता है।
-विलोम   
-पर्यायवाची    वैवर्ण्य, उड़ा, धुँधला, निष्प्रभ, निस्तेज, पांडुर, पीला, फीका, मद्धम
संस्कृत [वि+वर्ण]
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द विवर्त
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विवर्ण&oldid=117248" से लिया गया