समय धन है, इसे मत गंवाओ..! -महात्मा गाँधी  

समय धन है, इसे मत गंवाओ..! -महात्मा गाँधी
महात्मा गाँधी
विवरण महात्मा गाँधी
भाषा हिंदी
देश भारत
मूल शीर्षक प्रेरक प्रसंग
उप शीर्षक महात्मा गाँधी के प्रेरक प्रसंग
संकलनकर्ता अशोक कुमार शुक्ला

एक दिन साबरमती आश्रम के पास किसी गांव के लोग महात्मा गांधी के पास आये और कहने लगे बापू हमने अपने गांव में एक सभा का आयोजन किया है आप समय निकाल कर आयें और हमारा मार्गदर्शन करें तो बड़ी कृपा होगी

गांधी जी ने अगले दिन के लिये निर्धारित अपने कार्यक्रमों को देखा और पूछा यह कार्यक्रम कितने बजे प्रस्तावित है।

एक कार्यकर्ता बोला हमने चार बजे निश्चित किया है।

गांधी जी के कार्यक्रमों में अगले दिन चार बजे कोई व्यस्तता नहीं थी सो उन्होंने कार्यक्रम में आने की स्वीकृति दे दी।

कार्यकर्ता बोला बापू कल मैं एक घंटा पूर्व गाडी भेज दूंगा ताकि आपको अधिक कष्ट न हो।

गांधी जी बोले ठीक है मैं निश्चित समय पर तैयार रहूंगा।

अगले दिन जब पौने चार बजे तक कोई नहीं पहुचा तो गांधी जी चिंतित हो गये और सोचने लगे यदि वे समय पर नहीं पहुंचे तो लोग क्या कहेंगे? उनका समय व्यर्थ में नष्ट होगा। गाँधी जी ने एक उपाय सोचा और उस पर अमल किया।

कुछ समय पश्चात् वह कार्यकर्ता गाडी लेकर गांधी जी को लेने के लिये आश्रम पहुंचा तो गांधी जी को वहां नहीं पाया। उसे बड़ा आश्चर्य हुआ। वह वापिस लौट आया और जब वह सभा स्थल पर पहंचा तो देखा कि महात्मा गांधी जी भाषण दे रहे थे और सभी लोग उन्हें तन्मयता से सुन रहे थे।

भाषण के उपरांत वह गांधी जी से मिला और बोला मैं आपको लेने आश्रम गया था परन्तु आप वहां नहीं मिले फिर आप यहां तक कैसे पहुंचे ?

गांधी जी ने कहा जब आप पौने चार बजे तक नहीं पहुंचे तो मुझे चिंता हुई कि मेरे कारण इतने लोगों का समय नष्ट हो सकता है इसलिये मैने साइकिल उठाई और तेजी से चलाते हुए यहां पहुंच गया वह कार्यकर्ता बहुत शर्मिन्दा हुआ। गांधी जी ने कहा समय धन है इसे व्यर्थ में मत गंवाओ। इस तरह उस कार्यकर्ता को समय का महत्व पता चल चुका था।

महात्मा गाँधी से जुड़े अन्य प्रसंग पढ़ने के लिए महात्मा गाँधी के प्रेरक प्रसंग पर जाएँ।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=समय_धन_है,_इसे_मत_गंवाओ..!_-महात्मा_गाँधी&oldid=611421" से लिया गया