हिमालय की मिट्टी  

हिमालय
Himalayas

हिमालय की मिट्टी के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है। उत्तरमुखी ढलानों पर मिट्टी की अच्छी-ख़ासी मोटी परत है, जो कम ऊँचाइयों पर घने जंगलों तथा अधिक ऊँचाई पर घास का पोषण करती है। जंगल की मिट्टी गहरे भूरे रंग की है तथा इसकी बनावट चिकनी दोमट है। यह फलों के वृक्ष उगाने के लिए आदर्श मिट्टी है। पर्वतीय घास स्थली की मिट्टी भलीभाँति विकसित है, लेकिन इसकी मोटाई तथा रासायनिक गुण अलग-अलग हैं। पूर्वी हिमालय में इस तरह की नम, गहरी और उच्चभूमि की मिट्टी में, उदाहरणार्थ दार्जिलिंग की पहाड़ियों और असम घाटी में खाद की मात्रा अधिक होती है जो चाय की खेती के लिए अच्छी मानी जाती है। ऊसर मिट्टी (अनुपजाऊ) हिमालय पर्वतश्रेणी के उत्तर में सिंधु तथा इसकी सहायक श्योक नदी की घाटियों में लगभग 644 किलोमीटर की पट्टी में और हिमाचल प्रदेश में कहीं-कहीं पाई जाती है। सुदूर पूर्व में लद्दाख क्षेत्र के शुष्क, ऊँचे मैदानों में लवणीय मिट्टी पाई जाती है। जो मिट्टियाँ किसी ख़ास क्षेत्र तक सीमित नहीं हैं, उनमें जलोढ़ मिट्टी (बहते हुए पानी द्वारा निक्षेपित) सबसे उपजाऊ है, हालांकि यह बहुत कम क्षेत्रों में पाई जाती है, जैसे कश्मीर घाटी, देहरादून में और हिमालय की घाटियों के साथ स्थित ऊँचे कगारों पर। अश्ममृदा, जिसमें अपूर्ण रूप से विघटित चट्टानों के टुकड़े होते हैं और खाद की कमी होती है, अधिक ऊँचाई वाले विस्तृत क्षेत्रों में पाई जाती है और यह सबसे कम उपजाऊ मिट्टी है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हिमालय_की_मिट्टी&oldid=174637" से लिया गया