हुसैन निज़ामशाह प्रथम  

  • हुसैन निज़ामशाह प्रथम अहमदनगर के निज़ामशाही वंश का तीसरा सुल्तान था।
  • उसने 1553 से 1565 ई. तक राज्य किया था।
  • हुसैन निज़ामशाह प्रथम का शासनकाल दक्कन के इतिहास में एक युगांतकारी युग के रूप में स्वीकार किया जाता है।
  • उसने विजयनगर साम्राज्य कि विरुद्ध गोलकुण्डा और बीजापुर के सुल्तानों से सुलह कर ली थी।
  • बीजापुर के आदिलशाह, गोलकुण्डा के कुली कुतुबशाह और विजयनगर के रामराय की संयुक्त सेना ने अहमदनगर के प्रदेशों पर आक्रमण करके लूटपाट की थी।
  • हुसैन निज़ामशाह प्रथम इस लूटपाटपूर्ण व्यवहार से इतना क्षुब्ध हुआ कि, उसने 1565 ई. में विजयनगर के विरुद्ध दक्कन के मुस्लिम राज्यों के एक मुस्लिम संगठन की स्थापना की।
  • बरार इस संगठन में शामिल नहीं था।
  • इस संगठन ने 1565 ई. में तालीकोटा के युद्ध में विजयनगर को बुरी तरह से परास्त किया।
  • इस विजय कि फलस्वरूप विजयनगर को बुरी तरह से लूटा गया और उसे तहस-नहस कर दिया गया।
  • इस विजय से हुसैन निज़ामशाह प्रथम कोई लाभ नहीं उठा पाया।
  • जिस साल उसने विजयनगर पर विजय प्राप्त की, उसी वर्ष उसकी मृत्यु हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हुसैन_निज़ामशाह_प्रथम&oldid=176172" से लिया गया