होम  

होम अग्नि में देवताओं के लिए किसी वस्तु का विधि-पूर्वक प्रक्षेप होम कहलाता है। यह पंच महायज्ञों में से एक यज्ञ है। स्वयंभुव मनु का कथन है:

अध्यापनं ब्रह्मयज्ञ: पितृयज्ञस्तु तर्पणम् । होमो दैवी बलिभि तौ नृयज्ञों अतिथिपूजनम ।।



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

सुव्यवस्थित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=होम&oldid=469539" से लिया गया