मृणाल सेन  

मृणाल सेन
मृणाल सेन
पूरा नाम मृणाल सेन
जन्म 14 मई, 1923
जन्म भूमि फरीदपुर (बांग्लादेश)
मृत्यु 30 दिसम्बर 2018
मृत्यु स्थान कोलकाता
कर्म-क्षेत्र फ़िल्म निर्देशक
मुख्य फ़िल्में नील आकाशेर नीचे, पदातिक, इंटरव्यू, जेनेसिस, भुवन शोम, अकालेर संधान, खंडहर, एक दिन अचानक
पुरस्कार-उपाधि पद्म भूषण, दादा साहब फाल्के पुरस्कार, चार बार राष्ट्रीय पुरस्कार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी मृणाल सेन ने सिनेमा पर कई पुस्तकें भी प्रकाशित कीं, जिनमें शामिल हैं- ‘न्यूज ऑन सिनेमा’ (1977) तथा ‘सिनेमा, आधुनिकता’ (1992)।
अद्यतन‎

मृणाल सेन (अंग्रेज़ी:Mrinal Sen, जन्म: 14 मई, 1923[1]मृत्यु:30 दिसम्बर 2018, कोलकाता भारतीय फ़िल्मों के प्रसिद्ध निर्माता व निर्देशक हैं। इनकी अधिकतर फ़िल्में बांग्ला भाषा में हैं। बंगाली, उड़िया, तेलुगु और हिंदी फ़िल्मों में समान रूप से सक्रिय रहे मृणाल सेन भारत में समानांतार सिनेमा आंदोलन के अग्रणी माने जाते हैं।

जीवन परिचय

अपने समय के सक्रिय वामपंथी रहे मृणाल सेन का जन्म पूर्वी बंगाल (अब बांग्लादेश) के फरीदपुर में 14 मई, 1923 को हुआ। कलकत्ता से भौतिकशास्त्र में पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने मेडिकल रिप्रेंजेंटेटिव, पत्रकारिता और साउंड रिकॉर्डिंग सरीखे कई काम किये। फ़िल्मों में जीवन के यथार्थ को रचने से जुड़े और पढ़ने के शौकीन मृणाल सेन ने फ़िल्मों के बारे में गहराई से अध्ययन किया और सिनेमा पर कई पुस्तकें भी प्रकाशित कीं, जिनमें शामिल हैं- ‘न्यूज ऑन सिनेमा’ (1977) तथा ‘सिनेमा, आधुनिकता’ (1992)।

फ़िल्मी शुरुआत

मृणाल सेन ने फ़िल्मों में निर्देशन की शुरुआत 1956 में बंगाली फ़िल्म ‘रात भोरे’ से की। 1958 में उनकी दूसरी सफल फ़िल्म ‘नील आकाशेर नीचे’ आई। इस महत्वाकांक्षी फ़िल्म में उन्होंने 'भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन' में चीनियों के जापानी साम्राज्यवाद के विरुद्ध संघर्ष से की। 1960 की उनकी फ़िल्म ‘बाइशे श्रावण,’ जो कि 1943 में बंगाल में आये भयंकर अकाल पर आधारित थी और ‘आकाश कुसुम’ (1965) ने एक महान् निर्देशक के रूप में मृणाल सेन की छवि को विस्तार दिया। मृणाल की अन्य सफल बंगाली फ़िल्में रहीं- ‘इंटरव्यू’ (1970), ‘कलकत्ता ‘71’ (1972) और ‘पदातिक’ (1973), जिन्हें ‘कलकत्ता ट्रायोलॉजी’ कहा जाता है।

हिन्दी फ़िल्मों में योगदान

बंगाली फ़िल्मों की तरह ही मृणाल सेन हिन्दी फ़िल्मों में भी समान रूप से सक्रिय दिखते हैं। इनकी पहली हिन्दी फ़िल्म 1969 की कम बजट वाली फ़िल्म ‘भुवन शोम’ थी। फ़िल्म एक अडियल रईसजादे की पिछड़ी हुई ग्रामीण महिला द्वारा सुधार की हास्य-कथा है। साथ ही, यह फ़िल्म वर्ग-संघर्ष और सामाजिक बाधाओं की कहानी भी प्रस्तुत करती है। फ़िल्म की संकीर्णता से परे नये स्टाइल का दृश्य चयन और संपादन भारत में समानांतर सिनेमा के उद्भव पर गहरा प्रभाव छोड़ता है।[2]

प्रसि‍द्ध फ़िल्‍में

मृणाल सेन की प्रमुख फ़िल्में
क्र. सं. फ़िल्म क्र. सं. फ़िल्म
1. रात भोरे 2. नील आकाशेर नीचे
3. बाइशे श्रावण 4. पुनश्च
5. अवशेष 6. प्रतिनिधि
7. अकाश कुसुम 8. मतीरा मनीषा
9. भुवन शोम 10. इच्छा पुराण
11. इंटरव्यू 12 महापृथ्वी
13. अन्तरीन 14. 100 ईयर्स ऑफ सिनेमा
15. एक अधूरी कहानी 16. कलकत्ता 1971
17. बड़ारिक 18. कोरस
19. मृगया 20. ओका उरी कथा
21. परसुराम 22. एक दिन प्रतिदिन
23. चलचित्र 24. खारिज
25. खंडहर 26. जेंनसिस
27. एक दिन अचानक 28. सिटी लाईफ-कलकत्ता भाई एल-डराडो
29. आमार भुवन 30.

सम्मान और पुरस्कार

मृणाल सेन को भारत सरकार द्वारा 1981 में कला के क्षेत्र में 'पद्म भूषण' से सम्मानित किया गया था। इसके अतिरिक्त 2005 में 'दादा साहब फाल्के पुरस्कार भी प्रदान किया। उनको 1998 से 2000 तक मानक संसद सदस्यता भी मिली। फ़िल्मों के सृजन संसार को आजीवन समर्पित मृणाल सेन ने कई सम्मान और पुरस्कार बटोरे, जिनमें सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म का 'राष्ट्रीय पुरस्कार' भी शामिल है, जो उन्हें चार बार मिला। अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोहों में भी इन्हें कई पुरस्कार मिले। इनमें फ़िल्म ‘खारिज’ के लिए कान्स में ‘द प्रिक्स ड्यू ज्यूरी’ सम्मान शामिल है। 2004 में मृणाल सेन ने अपनी आत्मकथा 'आलवेज बिंग बोर्न' पूरा किया। 2008 में उन्हें 'ओसियन सिने फैन फेस्टिवल' और 'इंटर नेसनल फ़िल्म फेस्टिवल' द्वारा 'लाइफ़ टाइम अचिएवेमेंट' सम्मान से सम्मानित किया गया।

निधन

दादासाहब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित बांग्ला फिल्मों के प्रसिद्ध निर्माता और निर्देशक मृणाल सेन का 95 साल की आयु में रविवार 30 दिसम्बर 2018 को निधन हो गया। सेन ने कोलकाता के भवानीपुर स्थित अपने आवास पर ही आखिरी सांस ली। सेन लंबे समय से कई गंभीर बीमारियों से पीड़ित थे। उन्हें 1981 में पद्मभूषण और 2005 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। मृणाल 1998 से 2000 तक राज्यसभा में मनोनीत सांसद भी रहे।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. फरीदपुर, अब बांग्लादेश में;
  2. पांडेय, प्रमोद कुमार। मृणाल सेन (हिन्दी) सृजनगाथा। अभिगमन तिथि: 24 सितम्बर, 2012।
  3. फिल्म निर्माता और निर्देशक मृणाल सेन नहीं रहे, 95 साल की उम्र में हुआ निधन (हिन्दी) नई दुनिया। अभिगमन तिथि: 31 दिसम्बर, 2018।

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मृणाल_सेन&oldid=636139" से लिया गया