भारतकोश ज्ञान का हिन्दी महासागर  

हलचल    सम्पादकीय    आलेख    व्यक्तित्व    पर्यटन    रोग    सामान्य ज्ञान    आकर्षण    स्वतंत्र लेखन    समाचार    कुछ लेख    चयनित चित्र

आज का दिन - 16 जनवरी 2019 (भारतीय समयानुसार)

भारतकोश हलचल

माघ पूर्णिमा (31 जनवरी) रविदास जंयती (31 जनवरी) शहीद दिवस (30 जनवरी) गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) भीष्माष्टमी (25 जनवरी) राष्ट्रीय मतदाता दिवस (25 जनवरी) नर्मदा जयंती (24 जनवरी) रथ सप्तमी (24 जनवरी) आरोग्य सप्तमी (24 जनवरी) राष्ट्रीय बालिका दिवस (24 जनवरी) सुभाष चंद्र बोस जयंती (23 जनवरी) बसंत पंचमी (22 जनवरी) गुप्त नवरात्र प्रारम्भ (18 जनवरी) मौनी अमावस्या (16 जनवरी) माघबिहू (15 जनवरी) थल सेना दिवस (15 जनवरी) मकर संक्रांति (14 जनवरी) पोंगल (14 जनवरी) लोहड़ी (13 जनवरी) षटतिला एकादशी (12 जनवरी) राष्ट्रीय युवा दिवस (12 जनवरी) राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह (11-17 जनवरी)


जन्म
विष्णु सखाराम खांडेकर (19 जनवरी) कैफ़ी आज़मी (19 जनवरी) सौमित्र चटर्जी (19 जनवरी) महादेव गोविन्द रानाडे (18 जनवरी) अपर्णा पोपट (18 जनवरी) बाबू गुलाबराय (17 जनवरी) एल. वी. प्रसाद (17 जनवरी) रांगेय राघव (17 जनवरी) एम. जी. रामचन्द्रन (17 जनवरी) जावेद अख़्तर (17 जनवरी) ओ. पी. नैय्यर (16 जनवरी) कामिनी कौशल (16 जनवरी)
मृत्यु
ओशो रजनीश (19 जनवरी) उपेन्द्रनाथ अश्क (19 जनवरी) रजनी कोठारी (19 जनवरी) सआदत हसन मंटो (18 जनवरी) हरिवंश राय बच्चन (18 जनवरी) कुन्दन लाल सहगल (18 जनवरी) एन. टी. रामाराव (18 जनवरी) सुचित्रा सेन (17 जनवरी) ज्योति बसु (17 जनवरी) महादेव गोविन्द रानाडे (16 जनवरी) शरत चंद्र चट्टोपाध्याय (16 जनवरी) रामनरेश त्रिपाठी (16 जनवरी)

Harivanshrai-Bachchan.jpg
M.G.Ramachandran.jpg
L.V.-Prasad.jpg
Rangeya-Raghav.jpg
Gulabrai.jpg
Ram-Naresh-Tripathi.jpg
Sarat-Chandra-Chattopadhyay.jpg
Op nayyar.jpg

भारतकोश सम्पादकीय -आदित्य चौधरी

सफलता का शॉर्ट-कट

        जो सफलता का मंच है वह बीसवीं सीढ़ी चढ़ कर मिलेगा और इस मंच पर हम उन्नीस सीढ़ी चढ़ने के बाद भी नहीं पहुँच सकते क्योंकि बीसवीं तो ज़रूरी ही है। अब एक बात यह भी होती है कि उन्नीसवीं सीढ़ी से नीचे देखते हैं तो लगता है कि हमने कितनी सारी सीढ़ियाँ चढ़ ली हैं और न जाने कितनी और भी चढ़नी पड़ेंगी। इसलिए हताश हो जाना स्वाभाविक ही होता है। जबकि हम मात्र एक सीढ़ी नीचे ही होते हैं। ये आख़िरी सीढ़ी कोई भी कभी भी हो सकती है क्योंकि सफलता कभी आती हुई नहीं दिखती सिर्फ़ जाती हुई दिखती है। ...पूरा पढ़ें

पिछले सभी लेख शहीद मुकुल द्विवेदी के नाम पत्र शर्मदार की मौत


एक आलेख

रामनाथ कोविंद

        राष्ट्रपति अथवा राष्ट्र प्रमुख भारत के प्रथम नागरिक हैं, साथ ही भारतीय सशस्त्र सेनाओं के प्रमुख सेनापति भी हैं। राष्ट्रपति के पास पर्याप्त शक्ति होती है पर कुछ अपवादों के अलावा राष्ट्रपति के पद में निहित अधिकांश अधिकार वास्तव में प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाले मंत्रिपरिषद के द्वारा उपयोग किए जाते हैं। भारत के राष्ट्रपति नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में रहते हैं, जिसे 'रायसीना हिल' के नाम से भी जाना जाता है। भारतीय संविधान पर ब्रिटेन के संविधान का व्यापक प्रभाव है। ब्रिटेन के संविधान का अनुकरण करते हुए भारत में संविधान द्वारा संसदीय शासन की स्थापना की गयी है। राष्ट्रपति का चुनाव 'अप्रत्यक्ष निर्वाचन' के द्वारा किया जाता है। अनुच्छेद 54 के अनुसार राष्ट्रपति का निर्वाचन ऐसे निर्वाचक मण्डल द्वारा किया जाएगा, जिसमें संसद (लोकसभा तथा राज्यसभा) तथा राज्य विधान सभाओं के निर्वाचित सदस्य शामिल होंगे। ... और पढ़ें

पिछले आलेख रसखान की भाषा मौर्य काल

एक व्यक्तित्व

Omkarnath-thakur.jpg

        पण्डित ओंकारनाथ ठाकुर भारत के प्रसिद्ध संगीतज्ञ एवं हिन्दुस्तानी शास्त्रीय गायक थे। इनका सम्बन्ध ग्वालियर घराने से था। पण्डित ओंकारनाथ ठाकुर का जितना प्रभावशाली व्यक्तित्व था उतना ही असरदार उनका संगीत भी था। एक बार महात्मा गाँधी ने उनका गायन सुन कर टिप्पणी की थी- “पण्डित जी अपनी मात्र एक रचना से जन-समूह को इतना प्रभावित कर सकते हैं, जितना मैं अपने अनेक भाषणों से भी नहीं कर सकता।” पण्डित ओंकारनाथ ठाकुर की कालजयी रचनाओं में एक महत्त्वपूर्ण रचना है, ‘वन्देमातरम्...’। बंकिमचन्द्र चट्टोपाध्याय की यह अमर रचना, स्वतंत्र भारत के प्रथम सूर्योदय पर पण्डित जी के स्वरों से अलंकृत होकर आकाशवाणी द्वारा प्रसारित हुई थी। आगे चल कर ‘वन्देमातरम्...’ गीत के आरम्भिक दो अन्तरों को भारत की संविधान सभा ने राष्ट्रगीत के समकक्ष मान्यता प्रदान की थी। ... और पढ़ें

पिछले लेख जे. आर. डी. टाटा आर. के. लक्ष्मण

एक पर्यटन स्थल

बंगारम द्वीप समूह

        लक्षद्वीप भारत के दक्षिण-पश्चिम में हिंद महासागर में स्थित एक भारतीय द्वीप-समूह है। सभी केन्द्रशासित प्रदेशों में लक्षद्वीप सबसे छोटा है। यह भारत की मुख्यभूमि से लगभग 400 किमी दूर पश्चिम दिशा में अरब सागर में अवस्थित है। लक्षद्वीप द्वीप-समूह में कुल 36 द्वीप है परन्तु केवल 7 द्वीपों पर ही जनजीवन है। देशी पयर्टकों को 6 द्वीपों पर जाने की अनुमति है जबकि विदेशी पयर्टकों को केवल 2 द्वीपों (अगाती व बंगाराम) पर जाने की अनुमति है। मुख्य भूमि से दूर इनका प्राकृतिक सौंदर्य, प्रदूषणमुक्त वातावरण, चारों ओर समुद्र और इसकी पारदर्शी सतह पर्यटकों को सम्मोहित कर लेती है। समुद्री जल में तैरती मछलियाँ इन द्वीपों की सुंदरता को और बढ़ा देती हैं। ये द्वीप प्रकृति की एक अद्भुत देन है। यह आश्चर्य की बात है कि यहाँ की धरती का निर्माण मूँगों द्वारा किया गया। उन्होंने ही मानव के रहन-सहन के उपयुक्त बनाया। यह द्वीप पर्यटकों का स्वर्ग है। यहाँ का नैसर्गिक वातावरण देश-विदेश के सैलानियों को बरबस ही अपनी ओर खींच लेता है। ... और पढ़ें

पिछले पर्यटन स्थल चंडीगढ़ लाल क़िला

एक रोग

Aedes-Aegypti.jpg

         डेंगू अथवा 'डेंगी' / 'डेंगू बुख़ार' / 'डेंगू फीवर' / 'डेंगू ज्वर' एक ख़तरनाक संक्रामक रोग है। डेंगू का प्रथम महामारी रूपेण हमला एशिया, अफ़्रीका, उत्तरी अमेरिका में एक साथ सन् 1780 के लगभग हुआ था। इस रोग को 1779 में पहचाना तथा नाम दिया गया था। आम भाषा में इस बीमारी को "हड्डी तोड़ बुख़ार" कहा जाता है, क्योंकि इसके कारण शरीर व जोड़ों में बहुत दर्द होता है। डेंगू के प्रति लोगों में जागरुकता फैलाने तथा इसके प्रति सचेत रहने के लिए ही प्रतिवर्ष '10 अगस्त' को 'डेंगू निरोधक दिवस' मनाया जाता है। डेंगू सभी मच्छर से नहीं फैलता है। इस रोग का वाहक एड़ीज मच्छर की दो प्रजातियां हैं- एडीज एजिपटाई तथा एडीज एल्बोपेक्टस। जिस दिन डेंगू वायरस से संक्रमित कोई मच्छर किसी व्यक्ति को काटता है तो उसके लगभग 3-5 दिनों बाद ऐसे व्यक्ति में डेंगू बुख़ार के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। यह संक्रामक काल 3-10 दिनों तक भी हो सकता है। ...और पढ़ें

पिछले लेख मधुमेह ऑटिज़्म

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

भारतकोश पर स्वतंत्र लेखन

कुछ लेख

भारतकोश ज्ञान का हिन्दी-महासागर

  • देखे गये पृष्ठ- 40,15,72,267
  • कुल पृष्ठ- 1,72,529
  • कुल लेख- 52,016
  • कुल चित्र- 16,529
  • 'भारत डिस्कवरी' विभिन्न भाषाओं में निष्पक्ष एवं संपूर्ण ज्ञानकोश उपलब्ध कराने का अलाभकारी शैक्षिक मिशन है।
  • कृपया यह भी ध्यान दें कि यह सरकारी वेबसाइट नहीं है और हमें कहीं से कोई आर्थिक सहायता प्राप्त नहीं है।
  • सदस्यों को सम्पादन सुविधा उपलब्ध है।


ब्रज डिस्कवरी

ब्रज डिस्कवरी पर जाएँ

ब्रज डिस्कवरी पर हम आपको एक ऐसी यात्रा का भागीदार बनाना चाहते हैं जिसका रिश्ता ब्रज के इतिहास, संस्कृति, समाज, पुरातत्व, कला, धर्म-संप्रदाय, पर्यटन स्थल, प्रतिभाओं आदि से है।


चयनित चित्र



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुखपृष्ठ&oldid=633362" से लिया गया