भारतकोश ज्ञान का हिन्दी महासागर  

हलचल    सम्पादकीय    आलेख    व्यक्तित्व    रचना    त्योहार    सामान्य ज्ञान    आकर्षण    स्वतंत्र लेखन    समाचार    कुछ लेख    चयनित चित्र
आज का दिन - 6 मई 2016 (भारतीय समयानुसार)
Calendar icon.jpg भारतकोश कॅलण्डर Calendar icon.jpg
Calender-Icon.jpg

यदि दिनांक सूचना सही नहीं दिख रही हो तो कॅश मेमोरी समाप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

भारतकोश हलचल

भारतकोश हलचल

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस (18 मई) मोहिनी एकादशी (17 मई) विश्व दूरसंचार दिवस (17 मई) सिक्किम स्थापना दिवस (16 मई) सीता नवमी (15 मई) विश्व परिवार दिवस (15 मई) गंगा सप्तमी (12 मई) अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस (12 मई) राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (11 मई) अक्षय तृतीया (9 मई) बद्रीनाथ-केदारनाथ दर्शन प्रारम्भ (9 मई) परशुराम जयन्ती (8 मई) विश्व रेडक्रॉस दिवस (8 मई) विश्व थैलेसिमिया दिवस (8 मई) मातृ दिवस (8 मई) वरूथिनी एकादशी (3 मई) विश्व हास्य दिवस (3 मई) अंतरराष्ट्रीय प्रेस स्वतंत्रता दिवस (3 मई) विश्व अस्थमा दिवस (3 मई) मई दिवस (1 मई) गुजरात स्थापना दिवस (1 मई) महाराष्ट्र स्थापना दिवस (1 मई)


जन्म
जे. कृष्णमूर्ति (12 मई) कृष्ण चन्द्र भट्टाचार्य (12 मई) सआदत हसन मंटो (11 मई) मृणालिनी साराभाई (11 मई) पंकज मलिक (10 मई) योगेन्द्र सिंह यादव (10 मई) महाराणा प्रताप (9 मई) गोपाल कृष्ण गोखले (9 मई) गिरिजा देवी (8 मई) स्वामी चिन्मयानंद (8 मई) गोपबन्धु चौधरी (8 मई) तपन राय चौधरी (8 मई) रबीन्द्रनाथ ठाकुर (7 मई) पांडुरंग वामन काणे (7 मई) एन. एस. हार्डिकर (7 मई) मोतीलाल नेहरू (6 मई)
मृत्यु
शमशेर बहादुर सिंह (12 मई) आबिदा सुल्तान (11 मई) छत्रपति साहू महाराज (10 मई) मुख़्तार अहमद अंसारी (10 मई) कैफ़ी आज़मी (10 मई) तेनज़िंग नोर्गे (9 मई) कन्हैयालाल मिश्र प्रभाकर (9 मई) तलत महमूद (9 मई) ज़िया फ़रीदुद्दीन डागर (8 मई) आत्माराम रावजी देशपांडे (8 मई) अल्लूरी सीताराम राजू (7 मई) प्रेम धवन (7 मई) भूलाभाई देसाई (6 मई)

Parashurama.jpg
Girija-Devi.jpg
Tapan-Roy-Chawdhari.jpg
Rabindranath-Tagore.jpg
Alluri-Sitaram-Raju-Statue.jpg
N.S. Hardikar.jpg
Bhulabhai-Desai.jpg
Motilal-nehru.jpg

भारतकोश सम्पादकीय

भारतकोश सम्पादकीय -आदित्य चौधरी
हिन्दी के ई-संसार का संचार
Vishwa-Hindi-Patrika-2015.jpg

        इंटरनेट आज के समाज का पाँचवा स्तम्भ है। गुज़रे ज़माने में समाज पर असर डालने वाले माध्यमों में समाचार पत्रों, पुस्तकों और फ़िल्मों को ज़िम्मेदार समझा जाता रहा है लेकिन आज के समाज को प्रभावित करने में इंटरनेट की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण हो गई है। मोबाइल ‘नेटवर्क’ के लिए गली-मुहल्ले-देहात की भाषा में ‘नटवर’ शब्द लोकप्रिय है। हमारे घर में खाना बनाने वाली के पास दो स्मार्टफ़ोन हैं लेकिन उसका स्मार्टफ़ोन उसके नौकरी में उसका सहायक नहीं है। जिसका कारण है कि स्मार्टफ़ोन को मनोरंजन को वरीयता देकर बनाया गया है। होना यह चाहिए कि कंप्यूटर और स्मार्टफ़ोन प्रयोक्ता की ज़रूरत के हिसाब से बनाया जाए जिसमें कि वरीयता उसकी नौकरी या कामकाज हो… पूरा पढ़ें

पिछले सभी लेख ये तेरा घर ये मेरा घर · अभिभावक

भारतकोश संस्थापक श्री आदित्य चौधरी जी को माननीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह 'विश्व हिन्दी सम्मान' से सम्मानित करते हुए

भारतकोश संस्थापक श्री आदित्य चौधरी जी को 'विश्व हिन्दी सम्मान'

        भारतकोश संस्थापक श्री आदित्य चौधरी जी को दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन में भारतकोश का ऑनलाइन प्रकाशन एवं छात्रों को नि:शुल्क कम्प्यूटर शिक्षा देने के लिए भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा निमंत्रण मिला। भारत के माननीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने 12 सितम्बर, 2015 को श्री आदित्य चौधरी जी को 'विश्व हिन्दी सम्मान' से सम्मानित किया। ...और पढ़ें


आदित्य चौधरी के सभी सम्पादकीय एवं कविताएँ पढ़ने के लिए क्लिक कीजिए

एक आलेख

एक आलेख
Rgb-mix.jpg

        रंग [शुद्ध: रङ्‌ग] अथवा वर्ण का हमारे जीवन में बहुत महत्त्व है। रंग हज़ारों वर्षों से हमारे जीवन में अपनी जगह बनाए हुए हैं। प्राचीनकाल से ही रंग कला में भारत का विशेष योगदान रहा है। मुग़ल काल में भारत में रंग कला को अत्यधिक महत्त्व मिला। रंगों से हमें विभिन्न स्थितियों का पता चलता है। हम अपने चारों तरफ़ अनेक प्रकार के रंगों से प्रभावित होते हैं। रंग, मानवी आँखों के वर्णक्रम से मिलने पर छाया सम्बंधी गतिविधियों से उत्पन्न होते हैं। मूल रूप से इंद्रधनुष के सात रंगों को ही रंगों का जनक माना जाता है, ये सात रंग लाल, नारंगी, पीला, हरा, आसमानी, नीला तथा बैंगनी हैं। रंग से विभिन्न प्रकार की श्रेणियाँ एवं भौतिक विनिर्देश वस्तु, प्रकाश स्रोत इत्यादि के भौतिक गुणधर्म जैसे प्रकाश विलयन, समावेशन, परावर्तन जुड़े होते हैं ... और पढ़ें

पिछले आलेख सिंधु घाटी सभ्यता दीपावली रामलीला श्राद्ध

एक व्यक्तित्व

एक व्यक्तित्व
नज़ीर अकबराबादी

        नज़ीर अकबराबादी उर्दू में नज़्म लिखने वाले पहले कवि माने जाते हैं। समाज की हर छोटी-बड़ी ख़ूबी को नज़ीर साहब ने कविता में तब्दील कर दिया। ककड़ी, जलेबी और तिल के लड्डू जैसी वस्तुओं पर लिखी गई कविताओं को आलोचक कविता मानने से इनकार करते रहे। बाद में नज़ीर साहब की 'उत्कृष्ट शायरी' को पहचाना गया और आज वे उर्दू साहित्य के शिखर पर विराजमान चन्द नामों के साथ बाइज़्ज़त गिने जाते हैं। लगभग सौ वर्ष की आयु पाने पर भी इस शायर को जीते जी उतनी ख्याति नहीं प्राप्त हुई जितनी कि उन्हें आज मिल रही है। नज़ीर की शायरी से पता चलता है कि उन्होंने जीवन-रूपी पुस्तक का अध्ययन बहुत अच्छी तरह किया है। भाषा के क्षेत्र में भी वे उदार हैं, उन्होंने अपनी शायरी में जन-संस्कृति का, जिसमें हिन्दू संस्कृति भी शामिल है, दिग्दर्शन कराया है और हिन्दी के शब्दों से परहेज़ नहीं किया है। उनकी शैली सीधी असर डालने वाली है और अलंकारों से मुक्त है। शायद इसीलिए वे बहुत लोकप्रिय भी हुए। ... और पढ़ें

पिछले लेख पांडुरंग वामन काणे बिस्मिल्लाह ख़ाँ लाला लाजपत राय

एक रचना

एक रचना
Prathvirajrasoo.jpg

         पृथ्वीराज रासो हिन्दी भाषा में लिखा गया एक महाकाव्य है, जिसमें पृथ्वीराज चौहान के जीवन-चरित्र का वर्णन किया गया है। यह महाकवि चंदबरदाई की रचना है, जो पृथ्वीराज के अभिन्न मित्र तथा राजकवि थे। इसमें दिल्लीश्वर पृथ्वीराज के जीवन की घटनाओं का विशद वर्णन है। यह तेरहवीं शती की रचना है। डॉ. माताप्रसाद गुप्त इसे 1400 विक्रमी संवत के लगभग की रचना मानते हैं। इसमें पृथ्वीराज व उनकी प्रेमिका संयोगिता के परिणय का सुन्दर वर्णन है। यह ग्रंथ ऐतिहासिक कम काल्पनिक अधिक है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने 'हिन्दी साहित्य का इतिहास' में लिखा है- 'पृथ्वीराज रासो ढाई हज़ार पृष्ठों का बहुत बड़ा ग्रंथ है जिसमें 69 समय (सर्ग या अध्याय) हैं। प्राचीन समय में प्रचलित प्राय: सभी छंदों का व्यवहार हुआ है। मुख्य छंद हैं कवित्त (छप्पय), दूहा, तोमर, त्रोटक, गाहा और आर्या। ...और पढ़ें

पिछले लेख रामचरितमानस वंदे मातरम् पद्मावत

एक त्योहार

एक त्योहार
दुर्गा देवी

        नवरात्र हिन्दू धर्म ग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार माता भगवती की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है। भारत में नवरात्र का पर्व, एक ऐसा पर्व है जो हमारी संस्कृति में महिलाओं के गरिमामय स्थान को दर्शाता है। वर्ष में चार नवरात्र चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ महीने की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक नौ दिन के होते हैं, परंतु प्रसिद्धि में चैत्र और आश्विन के नवरात्र ही मुख्य माने जाते हैं। इनमें भी देवीभक्त आश्विन के नवरात्र अधिक करते हैं। इनको यथाक्रम वासन्ती और शारदीय नवरात्र भी कहते हैं। मान्यता है कि नवरात्र में महाशक्ति की पूजा कर श्रीराम ने अपनी खोई हुई शक्ति पाई, इसलिए इस समय आदिशक्ति की आराधना पर विशेष बल दिया गया है। मार्कण्डेय पुराण के अनुसार, दुर्गा सप्तशती में स्वयं भगवती ने इस समय शक्ति-पूजा को महापूजा बताया है। संस्कृत व्याकरण के अनुसार नवरात्रि कहना त्रुटिपूर्ण है। नौ रात्रियों का समाहार, समूह होने के कारण से द्वन्द समास होने के कारण यह शब्द पुल्लिंग रूप 'नवरात्र' में ही शुद्ध है। ... और पढ़ें


पिछले लेख होली दीपावली अहोई अष्टमी

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Quiz-icon-2.png

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

स्वतंत्र लेखन

भारतकोश पर स्वतंत्र लेखन


समाचार

समाचार
मनोज कुमार को दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित करते हुए महामहिम राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
भारतकोश संस्थापक श्री आदित्य चौधरी जी को माननीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह 'विश्व हिन्दी सम्मान' से सम्मानित करते हुए
Abdul-Kalam.jpg
Satyajit-Ray.jpg
Saina-Nehwal-2.jpg


कुछ लेख

कुछ लेख

योग दर्शन   •   पंचायती राज   •   मथुरा   •   ‎चौंसठ कलाएँ   •   स्वस्तिक   •   दो बीघा ज़मीन   •   ‎रत्न   •   पाणिनि   •   राम प्रसाद बिस्मिल   •   डाकघर

भारतकोश ज्ञान का हिन्दी-महासागर
  • देखे गये पृष्ठ- 20,02,75,621
  • कुल पृष्ठ- 1,49,123
  • कुल लेख- 37,016
  • कुल चित्र- 13,149
  • 'भारत डिस्कवरी' विभिन्न भाषाओं में निष्पक्ष एवं संपूर्ण ज्ञानकोश उपलब्ध कराने का अलाभकारी शैक्षिक मिशन है।
  • कृपया यह भी ध्यान दें कि यह सरकारी वेबसाइट नहीं है और हमें कहीं से कोई आर्थिक सहायता प्राप्त नहीं है।
  • सदस्यों को सम्पादन सुविधा उपलब्ध है।
ब्रज डिस्कवरी
ब्रज डिस्कवरी पर जाएँ
ब्रज डिस्कवरी पर हम आपको एक ऐसी यात्रा का भागीदार बनाना चाहते हैं जिसका रिश्ता ब्रज के इतिहास, संस्कृति, समाज, पुरातत्व, कला, धर्म-संप्रदाय, पर्यटन स्थल, प्रतिभाओं, आदि से है।

चयनित चित्र

चयनित चित्र
अगुआड़ा लाइट हाउस



वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः