भारतकोश ज्ञान का हिन्दी महासागर  

हलचल    सम्पादकीय    आलेख    व्यक्तित्व    रचना    त्योहार    सामान्य ज्ञान    आकर्षण    स्वतंत्र लेखन    समाचार    कुछ लेख    चयनित चित्र
आज का दिन - 28 जुलाई 2016 (भारतीय समयानुसार)
Calendar icon.jpg भारतकोश कॅलण्डर Calendar icon.jpg
Calender-Icon.jpg

यदि दिनांक सूचना सही नहीं दिख रही हो तो कॅश मेमोरी समाप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

भारतकोश हलचल

भारतकोश हलचल

विश्व स्तनपान दिवस सप्ताह (1 अगस्त) कामिदा एकादशी (30 जुलाई) विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस (28 जुलाई) केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल स्थापना दिवस (27 जुलाई) कारगिल विजय दिवस (26 जुलाई) राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस (22 जुलाई) गुरु पूर्णिमा (19 जुलाई) देवशयनी एकादशी (15 जुलाई) विश्व जनसंख्या दिवस (11 जुलाई) ईद उल फ़ितर (मीठी ईद) (7 जुलाई) जगन्नाथ रथयात्रा, पुरी (6 जुलाई) गुप्त नवरात्र प्रारम्भ (5 जुलाई) सोमवती अमावस्या (4 जुलाई) भारतीय स्टेट बैंक स्थापना दिवस (1 जुलाई) राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस (1 जुलाई) योगिनी एकादशी (30 जून) हूल क्रान्ति दिवस (30 जून) सांख्यिकी दिवस (29 जून) अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस (26 जून)


जन्म
उमाकांत मालवीय (2 अगस्त) पिंगलि वेंकय्या (2 अगस्त) प्रफुल्ल चंद्र राय (2 अगस्त) रविशंकर शुक्ल (2 अगस्त) पुरुषोत्तम दास टंडन (1 अगस्त) कमला नेहरू (1 अगस्त) मीना कुमारी (1 अगस्त) गोविन्द मिश्र (1 अगस्त) भगवान दादा (1 अगस्त) प्रेमचंद (31 जुलाई) मोहन लाल सुखाड़िया (31 जुलाई) दामोदर धर्मानंद कोसांबी (31 जुलाई) मुमताज़ (31 जुलाई) गोविन्द चन्द्र पाण्डे (30 जुलाई) जे. आर. डी. टाटा (29 जुलाई) रामेश्वर ठाकुर (28 जुलाई) इबने अरबी (28 जुलाई) अनिल जनविजय (28 जुलाई)
मृत्यु
बाल गंगाधर तिलक (1 अगस्त) देवकीनन्दन खत्री (1 अगस्त) नीरद चन्द्र चौधरी (1 अगस्त) अली सरदार जाफ़री (1 अगस्त) ऊधम सिंह (31 जुलाई) मुहम्मद रफ़ी (31 जुलाई) श्रीपाद दामोदर सातवलेकर (31 जुलाई) थॉमस ग्रे (30 जुलाई) ईश्वर चन्द्र विद्यासागर (29 जुलाई) जॉनी वॉकर (29 जुलाई) गायत्री देवी (29 जुलाई) अरुणा आसफ़ अली (29 जुलाई) चारू मजूमदार (28 जुलाई)

J.R.D-Tata.jpg
Ishwar-Chandra-Vidyasagar.jpg
Johnny-Walker.jpg
Gayatri-Devi-1.jpg
Aruna-Asaf-Ali.jpg
Rameshwar-Thakur.jpg
Anil janvijay1.jpg
Charu-Majumdar.jpg

भारतकोश सम्पादकीय

भारतकोश सम्पादकीय -आदित्य चौधरी
शहीद मुकुल द्विवेदी के नाम पत्र
Mukul-Dvawedi.jpg

        हमारे देश में किसी भी सेना या बल के जवान की जान की क़ीमत कितनी कम है इसका अंदाज़ा तुमको बख़ूबी होगा। हमारे जवान, सन् 62 की चीन की लड़ाई में बिना रसद और हथियारों के लड़ते रहे, कुछ वर्ष पहले मिग-21 जैसे कबाड़ा विमानों में एयरफ़ोर्स के पायलट बेमौत मरते रहे, पड़ोसी देश के दरिंदे हमारे सिपाहियों के सर काटकर ले जाते रहे, कश्मीर के साथ न्याय करने के बहाने भयानक अन्याय को सहते रहे, घटिया स्तर के नेताओं की जान बचाने के लिए अपनी जानें क़ुर्बान करते रहे, इन जवानों की शहादत इस बात का सबसे बड़ा प्रमाण था कि हमारी सरकारें देश के नौनिहालों को लेकर किस क़दर लापरवाह है। पूरा पढ़ें

पिछले सभी लेख हिन्दी के ई-संसार का संचार · ये तेरा घर ये मेरा घर

एक आलेख

एक आलेख
Rgb-mix.jpg

        रंग [शुद्ध: रङ्‌ग] अथवा वर्ण का हमारे जीवन में बहुत महत्त्व है। रंग हज़ारों वर्षों से हमारे जीवन में अपनी जगह बनाए हुए हैं। प्राचीनकाल से ही रंग कला में भारत का विशेष योगदान रहा है। मुग़ल काल में भारत में रंग कला को अत्यधिक महत्त्व मिला। रंगों से हमें विभिन्न स्थितियों का पता चलता है। हम अपने चारों तरफ़ अनेक प्रकार के रंगों से प्रभावित होते हैं। रंग, मानवी आँखों के वर्णक्रम से मिलने पर छाया सम्बंधी गतिविधियों से उत्पन्न होते हैं। मूल रूप से इंद्रधनुष के सात रंगों को ही रंगों का जनक माना जाता है, ये सात रंग लाल, नारंगी, पीला, हरा, आसमानी, नीला तथा बैंगनी हैं। रंग से विभिन्न प्रकार की श्रेणियाँ एवं भौतिक विनिर्देश वस्तु, प्रकाश स्रोत इत्यादि के भौतिक गुणधर्म जैसे प्रकाश विलयन, समावेशन, परावर्तन जुड़े होते हैं ... और पढ़ें

पिछले आलेख सिंधु घाटी सभ्यता दीपावली रामलीला श्राद्ध

एक व्यक्तित्व

एक व्यक्तित्व
नज़ीर अकबराबादी

        नज़ीर अकबराबादी उर्दू में नज़्म लिखने वाले पहले कवि माने जाते हैं। समाज की हर छोटी-बड़ी ख़ूबी को नज़ीर साहब ने कविता में तब्दील कर दिया। ककड़ी, जलेबी और तिल के लड्डू जैसी वस्तुओं पर लिखी गई कविताओं को आलोचक कविता मानने से इनकार करते रहे। बाद में नज़ीर साहब की 'उत्कृष्ट शायरी' को पहचाना गया और आज वे उर्दू साहित्य के शिखर पर विराजमान चन्द नामों के साथ बाइज़्ज़त गिने जाते हैं। लगभग सौ वर्ष की आयु पाने पर भी इस शायर को जीते जी उतनी ख्याति नहीं प्राप्त हुई जितनी कि उन्हें आज मिल रही है। नज़ीर की शायरी से पता चलता है कि उन्होंने जीवन-रूपी पुस्तक का अध्ययन बहुत अच्छी तरह किया है। भाषा के क्षेत्र में भी वे उदार हैं, उन्होंने अपनी शायरी में जन-संस्कृति का, जिसमें हिन्दू संस्कृति भी शामिल है, दिग्दर्शन कराया है और हिन्दी के शब्दों से परहेज़ नहीं किया है। उनकी शैली सीधी असर डालने वाली है और अलंकारों से मुक्त है। शायद इसीलिए वे बहुत लोकप्रिय भी हुए। ... और पढ़ें

पिछले लेख पांडुरंग वामन काणे बिस्मिल्लाह ख़ाँ लाला लाजपत राय

एक रचना

एक रचना
Prathvirajrasoo.jpg

         पृथ्वीराज रासो हिन्दी भाषा में लिखा गया एक महाकाव्य है, जिसमें पृथ्वीराज चौहान के जीवन-चरित्र का वर्णन किया गया है। यह महाकवि चंदबरदाई की रचना है, जो पृथ्वीराज के अभिन्न मित्र तथा राजकवि थे। इसमें दिल्लीश्वर पृथ्वीराज के जीवन की घटनाओं का विशद वर्णन है। यह तेरहवीं शती की रचना है। डॉ. माताप्रसाद गुप्त इसे 1400 विक्रमी संवत के लगभग की रचना मानते हैं। इसमें पृथ्वीराज व उनकी प्रेमिका संयोगिता के परिणय का सुन्दर वर्णन है। यह ग्रंथ ऐतिहासिक कम काल्पनिक अधिक है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने 'हिन्दी साहित्य का इतिहास' में लिखा है- 'पृथ्वीराज रासो ढाई हज़ार पृष्ठों का बहुत बड़ा ग्रंथ है जिसमें 69 समय (सर्ग या अध्याय) हैं। प्राचीन समय में प्रचलित प्राय: सभी छंदों का व्यवहार हुआ है। मुख्य छंद हैं कवित्त (छप्पय), दूहा, तोमर, त्रोटक, गाहा और आर्या। ...और पढ़ें

पिछले लेख रामचरितमानस वंदे मातरम् पद्मावत

एक त्योहार

एक त्योहार
दुर्गा देवी

        नवरात्र हिन्दू धर्म ग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार माता भगवती की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है। भारत में नवरात्र का पर्व, एक ऐसा पर्व है जो हमारी संस्कृति में महिलाओं के गरिमामय स्थान को दर्शाता है। वर्ष में चार नवरात्र चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ महीने की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक नौ दिन के होते हैं, परंतु प्रसिद्धि में चैत्र और आश्विन के नवरात्र ही मुख्य माने जाते हैं। इनमें भी देवीभक्त आश्विन के नवरात्र अधिक करते हैं। इनको यथाक्रम वासन्ती और शारदीय नवरात्र भी कहते हैं। मान्यता है कि नवरात्र में महाशक्ति की पूजा कर श्रीराम ने अपनी खोई हुई शक्ति पाई, इसलिए इस समय आदिशक्ति की आराधना पर विशेष बल दिया गया है। मार्कण्डेय पुराण के अनुसार, दुर्गा सप्तशती में स्वयं भगवती ने इस समय शक्ति-पूजा को महापूजा बताया है। संस्कृत व्याकरण के अनुसार नवरात्रि कहना त्रुटिपूर्ण है। नौ रात्रियों का समाहार, समूह होने के कारण से द्वन्द समास होने के कारण यह शब्द पुल्लिंग रूप 'नवरात्र' में ही शुद्ध है। ... और पढ़ें


पिछले लेख होली दीपावली अहोई अष्टमी

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Quiz-icon-2.png

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

स्वतंत्र लेखन

भारतकोश पर स्वतंत्र लेखन


समाचार

समाचार
Pslv-c34.jpg
Saina-Nehwal-2.jpg
RLV-TD अर्थात रीयूजेबल लॉन्च वीइकल- टेक्नॉलजी डेमॉनस्ट्रेटर
मनोज कुमार को दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित करते हुए महामहिम राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
भारतकोश संस्थापक श्री आदित्य चौधरी जी को माननीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह 'विश्व हिन्दी सम्मान' से सम्मानित करते हुए


कुछ लेख

कुछ लेख

योग दर्शन   •   पंचायती राज   •   मथुरा   •   ‎चौंसठ कलाएँ   •   स्वस्तिक   •   दो बीघा ज़मीन   •   ‎रत्न   •   पाणिनि   •   राम प्रसाद बिस्मिल   •   डाकघर

भारतकोश ज्ञान का हिन्दी-महासागर
  • देखे गये पृष्ठ- 21,54,20,831
  • कुल पृष्ठ- 1,56,419
  • कुल लेख- 43,783
  • कुल चित्र- 13,457
  • 'भारत डिस्कवरी' विभिन्न भाषाओं में निष्पक्ष एवं संपूर्ण ज्ञानकोश उपलब्ध कराने का अलाभकारी शैक्षिक मिशन है।
  • कृपया यह भी ध्यान दें कि यह सरकारी वेबसाइट नहीं है और हमें कहीं से कोई आर्थिक सहायता प्राप्त नहीं है।
  • सदस्यों को सम्पादन सुविधा उपलब्ध है।
ब्रज डिस्कवरी
ब्रज डिस्कवरी पर जाएँ
ब्रज डिस्कवरी पर हम आपको एक ऐसी यात्रा का भागीदार बनाना चाहते हैं जिसका रिश्ता ब्रज के इतिहास, संस्कृति, समाज, पुरातत्व, कला, धर्म-संप्रदाय, पर्यटन स्थल, प्रतिभाओं, आदि से है।

चयनित चित्र

चयनित चित्र
योद्धपोत, अटलांटिक महासागर

अटलांटिक महासागर में युद्धपोत



वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                                 अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र    अः