भारतकोश का उन्नत रूपान्तरण (अपग्रेडेशन) चल रहा है। आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद है।

भारतकोश ज्ञान का हिन्दी महासागर

आज का दिन - 30 जुलाई 2015 (भारतीय समयानुसार)
Calendar icon.jpg भारतकोश कॅलण्डर Calendar icon.jpg
Calender-Icon.jpg

यदि दिनांक सूचना सही नहीं दिख रही हो तो कॅश मेमोरी समाप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

भारतकोश हलचल

भारतकोश हलचल

विश्व स्तनपान सप्ताह (1-7 अगस्त) · गुरु पूर्णिमा (31 जुलाई) · विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस (28 जुलाई) · केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल स्थापना दिवस (27 जुलाई) · देवशयनी एकादशी (27 जुलाई) · विजय दिवस (26 जुलाई) · गुप्त नवरात्र समाप्त (25 जुलाई) · राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस (22 जुलाई)


जन्म
पुरुषोत्तम दास टंडन (1 अगस्त) · कमला नेहरू (1 अगस्त) · गोविन्द मिश्र (1 अगस्त) · प्रेमचंद (31 जुलाई) · दामोदर धर्मानंद कोसांबी (31 जुलाई) · मुमताज़ (31 जुलाई) · मोहन लाल सुखाड़िया (31 जुलाई)
मृत्यु
बाल गंगाधर तिलक (1 अगस्त) · देवकीनन्दन खत्री (1 अगस्त) · भगवान दादा (1 अगस्त) · नीरद चन्द्र चौधरी (1 अगस्त) · अली सरदार जाफ़री (1 अगस्त) · श्रीपाद दामोदर सातवलेकर (31 जुलाई) · ऊधम सिंह (31 जुलाई) · मुहम्मद रफ़ी (31 जुलाई)

दानघाटी मन्दिर, गोवर्धन

Shripad-Damodar-Satwalekar.jpg

Mohan-Lal-Sukhadia.jpg

Premchand.jpg

Mohd.Rafi.jpg

Udham-Singh.jpg

Mumtaz-03.jpg

Damodar-Dharmananda-Kosambi.jpg

भारतकोश सम्पादकीय

भारतकोश सम्पादकीय -आदित्य चौधरी
अभिभावक
Parents.png

         एक सौ पच्चीस करोड़ की आबादी, 6 लाख 38 हज़ार से अधिक गाँवों और क़रीब 18 सौ नगर-क़स्बों वाले हमारे देश में क़रीब 35 करोड़ छात्राएँ-छात्र हैं। जो 16 लाख से अधिक शिक्षण संस्थानों और 700 विश्वविद्यालयों में समाते हैं। दु:खद यह है कि विश्व के मुख्य 100 शिक्षण संस्थानों में किसी भी भारतीय शिक्षण संस्थान का नाम-ओ-निशां नहीं है। पूरा पढ़ें

पिछले सभी लेख भारत की जाति-वर्ण व्यवस्था · भूली-बिसरी कड़ियों का भारत

आदित्य चौधरी के सभी सम्पादकीय एवं कविताएँ पढ़ने के लिए क्लिक कीजिए

एक आलेख

एक आलेख
Chetanya-Mahaprabhu.jpg

          चैतन्य महाप्रभु भक्तिकाल के प्रमुख संतों में से एक हैं। इन्होंने वैष्णवों के गौड़ीय संप्रदाय की आधारशिला रखी। भजन गायकी की एक नयी शैली को जन्म दिया तथा राजनीतिक अस्थिरता के दिनों में हिन्दू-मुस्लिम एकता की सद्भावना को बल दिया, जाति-पांत, ऊँच-नीच की भावना को दूर करने की शिक्षा दी तथा विलुप्त वृन्दावन को फिर से बसाया और अपने जीवन का अंतिम भाग वहीं व्यतीत किया। बाल्यावस्था में इनका नाम विश्वंभर था, परंतु सभी इन्हें 'निमाई' कहकर पुकारते थे। गौरवर्ण का होने के कारण लोग इन्हें 'गौरांग', 'गौर हरि', 'गौर सुंदर' आदि भी कहते थे। महाप्रभु चैतन्य के जीवन चरित के लिए वृन्दावनदास द्वारा रचित 'चैतन्य भागवत' और कृष्णदास कविराज द्वारा 1590 में रचित 'चैतन्य चरितामृत' नामक ग्रन्थ प्रमुख हैं। चैतन्य महाप्रभु ने 'अचिन्त्य भेदाभेदवाद' का प्रवर्तन किया, किन्तु प्रामाणिक रूप से इनका कोई ग्रन्थ उपलब्ध नहीं होता। इनके कुछ शिष्यों के मतानुसार 'दशमूल श्लोक' इनके रचे हुए हैं। ... और पढ़ें


पिछले आलेख भारतीय संस्कृति · स्वस्तिक · चाय · बुद्ध · नवरात्र

एक पर्यटन स्थल

एक पर्यटन स्थल
रणथम्भौर क़िला

        रणथम्भौर क़िला राजस्थान में ऐतिहासिक घटनाओं एवं बहादुरी का प्रतीक है। रणथम्भौर का दुर्ग सीधी ऊँची खड़ी पहाड़ी पर स्थित है, जो आसपास के मैदानों के ऊपर 700 फुट की ऊंचाई पर है। यह विंध्य पठार और अरावली पहाड़ियों के बीच स्थित है, जो 7 कि.मी. भौगोलिक क्षेत्र में फैला हुआ है। इस क़िले के निर्माता का नाम अनिश्चित है, किन्तु इतिहास में सर्वप्रथम इस पर चौहानों के अधिकार का उल्लेख मिलता है। जनश्रुति है कि प्रारम्भ में इस दुर्ग के स्थान के निकट 'पद्मला' नामक एक सरोवर था। यह इसी नाम से आज भी क़िले के अन्दर ही स्थित है। इसके तट पर पद्मऋषि का आश्रम था। इन्हीं की प्रेरणा से जयंत और रणधीर नामक दो राजकुमारों ने जो कि अचानक ही शिकार खेलते हुए वहाँ पहुँच गए थे, इस क़िले को बनवाया और इसका नाम 'रणस्तम्भर' रखा। क़िले की स्थापना पर यहाँ गणेश जी की प्रतिष्ठा की गई थी, जिसका आह्वान राज्य में विवाहों के अवसर पर किया जाता है। ... और पढ़ें


पिछले पर्यटन स्थल गुजरात · ऊटी · नैनीताल · महेश्वर

एक व्यक्तित्व

एक व्यक्तित्व
Lala-Lajpat-Rai.jpg

        लाला लाजपत राय को भारत के महान क्रांतिकारियों में गिना जाता है। आजीवन ब्रिटिश राजशक्ति का सामना करते हुए अपने प्राणों की परवाह न करने वाले लाला लाजपत राय को 'पंजाब केसरी' भी कहा जाता है। लालाजी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के गरम दल के प्रमुख नेता तथा पूरे पंजाब के प्रतिनिधि थे। उन्हें 'पंजाब के शेर' की उपाधि भी मिली थी। उन्होंने क़ानून की शिक्षा प्राप्त कर हिसार में वकालत प्रारम्भ की थी, किन्तु बाद में स्वामी दयानंद के सम्पर्क में आने के कारण वे आर्य समाज के प्रबल समर्थक बन गये। यहीं से उनमें उग्र राष्ट्रीयता की भावना जागृत हुई। लालाजी ने भगवान श्रीकृष्ण, अशोक, शिवाजी, स्वामी दयानंद सरस्वती, पण्डित गुरुदत्त विद्यार्थी, मेत्सिनी और गैरीबाल्डी की संक्षिप्त जीवनियाँ भी लिखीं। 'नेशनल एजुकेशन', 'अनहैप्पी इंडिया' और 'द स्टोरी ऑफ़ माई डिपोर्डेशन' उनकी अन्य महत्त्वपूर्ण रचनाएँ हैं। ... और पढ़ें


पिछले लेख कवि प्रदीप · मुक्तिबोध · मोहन राकेश · जयशंकर प्रसाद

एक रचना

एक रचना
Padmawat-Malik-Mohmmad-Jayasi.jpg

        पद्मावत एक प्रेमगाथा है, जो आध्यात्मिक स्वरूप में है। मलिक मुहम्मद जायसी द्वारा रचित 'पद्मावत' की कथा प्रेममार्गी सूफ़ी कवियों की भांति काल्पनिक न होकर चित्तौड़ के राजा रत्नसेन और सिंहलद्वीप की राजकुमारी पद्मावती (रानी पद्मिनी) की प्रसिद्ध ऐतिहासिक प्रेमगाथा पर आधारित है। 'नागमती के विरह-वर्णन' में तो 'जायसी' ने अपनी संवेदना गहन रूप से वर्णित की है। कथा का द्वितीय भाग ऐतिहासिक है, जिसमें चित्तौड़ पर अलाउद्दीन ख़िलजी के आक्रमण और 'पद्मावती के जौहर' का सजीव वर्णन है। 'पद्मावत' मसनवी शैली में रचित एक महाकाव्य है जिसमें कुल 57 खंड हैं। इस महाकाव्य का प्रारम्भ काल्पनिक कथा से है और अंत इतिहास पर आधारित है। जायसी ने इतिहास और कल्पना, दोनों का मिश्रण किया है। जायसी ही लिखते हैं कि उन्होंने 'पद्मावत' की रचना 927 हिजरी में प्रारंभ की। ... और पढ़ें

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी

सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
Iq-1.gif

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

महत्त्वपूर्ण आकर्षण

समाचार

समाचार
Abdul-Kalam.jpg Satyajit-Ray.jpg Saina-Nehwal-2.jpg R.K.Laxman.jpg Rajni-Kothari.jpg


कुछ लेख

कुछ लेख

जैन धर्म   •   न्याय दर्शन   •   हाइड्रोजन   •   ‎ब्रज   •   ‎कोलकाता   •   अबुलकलाम आज़ाद   •   सोमनाथ चटर्जी   •   ‎मौर्य काल   •   पंचांग   •   गाँधी युग

भारतकोश ज्ञान का हिन्दी-महासागर
  • देखे गये पृष्ठ- 15,87,15,225
  • कुल पृष्ठ- 1,41,310
  • कुल लेख- 30,422
  • कुल चित्र- 12,842
  • 'भारत डिस्कवरी' विभिन्न भाषाओं में निष्पक्ष एवं संपूर्ण ज्ञानकोश उपलब्ध कराने का अलाभकारी शैक्षिक मिशन है।
  • कृपया यह भी ध्यान दें कि यह सरकारी वेबसाइट नहीं है और हमें कहीं से कोई आर्थिक सहायता प्राप्त नहीं है।
  • सदस्यों को सम्पादन सुविधा उपलब्ध है।
ब्रज डिस्कवरी
ब्रज डिस्कवरी पर जाएँ
ब्रज डिस्कवरी पर हम आपको एक ऐसी यात्रा का भागीदार बनाना चाहते हैं जिसका रिश्ता ब्रज के इतिहास, संस्कृति, समाज, पुरातत्व, कला, धर्म-संप्रदाय, पर्यटन स्थल, प्रतिभाओं, आदि से है।

चयनित चित्र

चयनित चित्र
लोहागढ़ क़िले में स्थित महल संग्रहालय, भरतपुर

लोहागढ़ क़िले में स्थित महल संग्रहालय, भरतपुर



-

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

अं
क्ष त्र ज्ञ श्र अः