अंकलेश्वर  

अंकलेश्वर गुजरात में स्थित एक नगर है। भड़ौच से 5 मील (लगभग 8 कि.मी.) है। प्राचीन समय में नर्मदा अंकलेश्वर से बहती थी, अब तीन मील दूर हट गई है। कहा जाता है कि मांडव्य ऋषि और शांडिली जिनकी कथा महाभारत में है, इसी स्थान के निवासी थे। यह कथा महाभारत आदि पर्व[1] में वर्णित है जहाँ मांडव्याश्रम का उल्लेख इस प्रकार किया है-

'बभूव ब्रह्मण: कश्चिन्मांडव्य इति विश्रुत:, धृतिमान सर्वधर्मज्ञ: सत्ये तपसि च स्थित:।
स आश्रमपद्दवारिवृक्षमूले महातपा:।
'ऊर्ध्व बाहुर्महायोगी तस्यौ मौनवृतांवैत:।'

  • अंकलेश्वर में मांडव्येश्वर नामक प्राचीन शिवमंदिर है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 01| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार
  1. महाभारत आदि पर्व 106-107

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंकलेश्वर&oldid=627766" से लिया गया