अनुप  

अनुप नर्मदा तट पर स्थित माहिष्मती के परवर्ती प्रदेश या निमाड़ का प्राचीन नाम है। गौतमीबलश्री के नासिक अभिलेख में अनुपदेश को सातवाहन-नरेश गौतमीपुत्र[1] के विशाल राज्य का एक अंग बताया गया है। कालिदास ने रघुवंश महाकाव्य[2] में, इंदुमती के स्वयंवर के प्रसंग में माहिष्मती-नरेश प्रतीप को अनूप-राज कहा है-

'तामग्रतस्तामरसान्तराभामनूपराजस्यगुणैरनूनाम्,
विधायसृष्टिं ललितां विधातुर्जगाद भूय: सुदतीं सुनन्दा'।

रघुवंश महाकाव्य[3] में माहिष्मती का वर्णन है। गिरनार-स्थित रुद्रदामन् के प्रसिद्ध अभिलेख में इस प्रदेश को रुद्रदामन् द्वारा विजित बताया गया है-

'स्ववीर्यार्जितानाममनुरक्त प्रकृतीनां- आनर्त सुराष्ट्र श्वभ्रभरुकच्छ सिंधुसौवीर कुकुरापरान्त निषादादीनाम्'-

अनुप या अनूप का शाब्दिक अर्थ 'जल के समीप' स्थित देश है। कच्छ (गुजरात) का एक प्राचीन नाम जिसका उल्लेख महाभारत में है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 21| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार
  1. द्वितीय शती ई.
  2. रघुवंश महाकाव्य 6,37
  3. रघुवंश महाकाव्य 6,43

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनुप&oldid=627214" से लिया गया