इक दिन ऐसा होइगा -कबीर  

इक दिन ऐसा होइगा -कबीर
संत कबीरदास
कवि कबीर
जन्म 1398 (लगभग)
जन्म स्थान लहरतारा ताल, काशी
मृत्यु 1518 (लगभग)
मृत्यु स्थान मगहर, उत्तर प्रदेश
मुख्य रचनाएँ साखी, सबद और रमैनी
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
कबीर की रचनाएँ

इक दिन ऐसा होइगा, सब सौ परै बिछोह।
राजा राना छत्रपति, सावधान किन होइ।।

अर्थ सहित व्याख्या

कबीरदास चेतावनी देते हुए कहते हैं कि हे मानव! चाहे कोई राजा, राणा या छत्रपति हो, सबके लिए एक ऐसा दिन आएगा, जब उसे संसार से सब कुछ त्यागकर इस लोक से जाना होगा। इसलिए हे मनुष्यों! समय रहते ही सावधान क्यों नहीं हो जाते?



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=इक_दिन_ऐसा_होइगा_-कबीर&oldid=435473" से लिया गया