ऋक्ष  

Disamb2.jpg ऋक्ष एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- ऋक्ष (बहुविकल्पी)
  • ऋक्ष का अर्थ होता है- रीछ या भालू।
  • ऋग्वेद में ऋक्ष शब्द एक बार तथा परवर्ती वैदिक साहित्य में कदाचित ही प्रयुक्त हुआ है।
  • स्पष्टत: यह जंतु वैदिक भारत में बहुत कम पाया जाता था, इस शब्द का बहुवचन में प्रयोग 'सप्तऋषियों' के अर्थ में भी कम ही हुआ है।
  • ऋग्वेद में दानस्तुति के एक मंत्र में 'ऋक्ष' एक संरक्षक का नाम है, जिसके पुत्र 'आर्क्ष' का उल्लेख दूसरे मंत्र में आया है।
  • परवर्ती काल में नक्षत्रों के अर्थ में इसका प्रयोग हुआ है।
  • रामायण तथा पुराणों की कई गाथाओं में 'ऋक्ष, एक जाति विशेष' का नाम है।
  • ऋक्षों ने रावण से युद्ध करने में राम की सहायता की थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

सम्बंधित लेख

टीका टिप्पणी और संदर्भ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ऋक्ष&oldid=550614" से लिया गया