करेला  

करेले

करेला एक लोकप्रिय सब्ज़ी है। करेले का जन्म स्थान पुरानी दुनिया के उष्ण क्षेत्र अफ्रीका तथा चीन माने जाते हैं। करेले का वानस्पतिक नाम मिमोर्डिका करन्शिया है। यहाँ से इनका वितरण संसार के अन्य भागों में हुआ। भारत में इसकी जंगली जातियाँ आज भी उगती हुई देखी गयी हैं।[1]

करेले की खेती सम्पूर्ण भारत में की जाती है। इसका फल तथा फलों के रस को दवाओं के लिए भी प्रयोग किया जाता है।[2]

औषधीय गुण

मनुष्य के लिए करेला परम हितकारी और औषधीय गुणों का भंडार है। भूख को बढ़ाकर करेला हमारी पाचन शक्ति को सुधारता है। पचने में करेला हल्का होता है। गर्मी से उत्पन्न विकारों पर शीतल होने के कारण यह शीघ्र लाभ करता है।
करेला
करेला बुखार, खाँसी, त्वचा के विकार, एनीमिया, प्रमेह तथा पेट के कीड़ों का नाशक है।[3]
  • स्वास्थ्य के लिए करेला बहुत ही अच्छा होता है। विशेषकर मधुमेह या डाईबिटीस के लिए।
  • यह एक एंटीऑक्सिडेंट है और शर्करा के मेटाबोलिजम को बढ़ाता है।
  • इसमें आयरन, विटामिन सी, कैल्सियम,पोटेशियम एवं बीटा केरोटिन आदि तत्त्व पाए जाते हैं।
  • यह सब तत्त्व शरीर को बीमारियों से बचाते हैं।
  • यह लीवर को ताकत देता है तथा आँतों में कीड़ों से होने वाले विकारों से भी सुरक्षा देता है।
  • यह कैंसर से भी शरीर को बचाता है एवं चर्म रोगों में भी काफ़ी लाभदायक होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. करेला (हिन्दी) उत्तरा कृषि प्रभा। अभिगमन तिथि: 26 अगस्त, 2010
  2. करेला (हिन्दी) डिजिटल मण्डी। अभिगमन तिथि: 26 अगस्त, 2010
  3. कड़वा किन्तु कमाल का करेला (हिन्दी) (एच.टी.एम) वेबदुनिया। अभिगमन तिथि: 26 अगस्त, 2010

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=करेला&oldid=247562" से लिया गया