जीवक  

मगधनरेश बिंबिसार का प्रसिद्ध राजवैद्य 'जीवक' बुद्ध का अनुयायी था। इसका आयुर्वेद का ज्ञान अत्यंत उच्च कोटि का था। इसकी माता का नाम सलावती था जो राजगृह की गणिका थी। उसके जन्म के बाद सलावती ने उसे घूरे पर फेंक दिया था। वहाँ बिम्बिसार के पुत्र राजकुमार अभय ने इसे प्राप्त किया। लालन पोषण के पश्चात् यह अध्ययन के लिए तक्षशिला भेजा गया, जहाँ इसने आयुर्वेद का अध्ययन किया तथा नगर के चतुर्दिक घूमकर औषधि के पौधों का ज्ञान प्राप्त किया।[1] अंबवन बिहार राज्य के राजगृह के निकट स्थित एक आम्रोद्यान है। दीघनिकाय[2] के अनुसार गौतम बुद्ध अंबवन में कुछ समय के लिए ठहरे थे। अंबवन में उद्यान राजवैद्य जीवक का था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. दीक्षा की भारतीय परम्पराएँ (हिंदी), 87।
  2. दीघनिकाय 1,47,49

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=जीवक&oldid=596170" से लिया गया