नीनो-डी-कुन्हा  

  • अलफ़ांसो-द-अल्बुकर्क के बाद नीनो-डी-कुन्हा अगला पुर्तग़ाली वायसराय बनकर भारत आया।
  • 1530 में उसने अपना कार्यालय कोचीन से गोवा स्थानान्तरित करवा लिया।
  • उसने गोवा को पुर्तग़ाल राज्य की औपचारिक राजधानी बनाया।
  • नीनो-डी-कुन्हा ने 'सैन्थोमी' (चेन्नई), 'हुगली' (बंगाल) तथा 'दीव' (काठमाण्डू) में पुर्तग़ाली बस्तियों को स्थापित किया।
  • भारत में पूर्वी समुद्र तट की ओर पुर्तग़ाली वाणिज्य का विस्तार किया।
  • उसने 1534 ई. में बसीन और 1535 में दीव पर अधिकार कर किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नीनो-डी-कुन्हा&oldid=269988" से लिया गया