नीलकण्ठ मन्दिर, बांदा  

नीलकण्ठ मन्दिर बांदा ज़िला, उत्तर प्रदेश के कालिंजर में स्थित है। यह प्राचीन मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इस मंदिर की वास्तुकला खजुराहो की शैली जैसी ही है।

  • हिन्दू धर्म में 'नीलकंठ' शब्‍द का प्रयोग भगवान शंकर के लिए किया जाता है।
  • 'कांलिजर' शब्द का प्रयोग भगवान शिव का प्रतीक है। माना जाता है कि इस जगह पर भगवान शिव ने कुछ समय विश्राम किया था।
  • लोगों का मानना है कि शिव इस जगह पर हमेशा रहते हैं।
  • कालिंजर दुर्ग के पश्चिम दिशा के मध्य में नीलकंठ मंदिर स्थित है। मंदिर का निर्माण चंदेल राजा ने करवाया था।
  • 'नीलकण्ठ मन्दिर' में एक शिवलिंग है, जो गहरे नीले पत्थर से निर्मित है।
  • शिवलिंग की ऊंचाई लगभग 1.15 मीटर है। इस पर शिव, देवी शक्ति, विष्णु, गणेश, भैरव और भैरवी के चित्र बने हुए हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नीलकण्ठ मन्दिर (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 25 दिसम्बर, 2013।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नीलकण्ठ_मन्दिर,_बांदा&oldid=469333" से लिया गया