प्रफुल्लचंद नटवरलाल भगवती  

प्रफुल्लचंद नटवरलाल भगवती

प्रफुल्लचंद नटवरलाल भगवती या पी. एन. भगवती (अंग्रेज़ी: Prafullachandra Natwarlal Bhagwati, 21 दिसम्बर 1921 गुजरात) भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश हैं।[1]


  • इनका जन्म 21 दिसम्बर 1921 को गुजरात में हुआ, इनके पिता जस्टिस एन. एच. भगवती थे।
  • इन्होंने रचनात्मक व्याख्या के माध्यम से मानव अधिकारों की पहुंच और विषय का विस्तार किया है।
  • इनको 1999 में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार समिति के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित किया गया।
  • उनकी सेवाओं का उपयोग मंगोलिया, कंबोडिया, नेपाल, इथियोपिया और दक्षिण अफ्रीका सहित कई देशों ने अपने संविधानों और विशेष रूप से मानव अधिकारों पर अध्याय तैयार करने में किया।
  • इन्होंने वियना मानवाधिकार कांग्रेस में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के लिए 'पीपुल्स ट्रिब्यूनल' की अध्यक्षता भी की।
  • ये 12 जुलाई 1985 से 20 दिसम्बर 1986 तक भारत के मुख्य न्यायाधीश रहे, इस पद पर वे 526 दिन तक कार्यरत रहे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पी. एन. भगवती (हिंदी) www.mea.gov.in। अभिगमन तिथि: 04 अक्टूबर, 2016।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=प्रफुल्लचंद_नटवरलाल_भगवती&oldid=574033" से लिया गया