भोज  

Disamb2.jpg भोज एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- भोज (बहुविकल्पी)

भोज शब्द का प्रयोग प्राचीन साहित्य में तीन अर्थों में हुआ है[1]-

  1. शासकीय पदवी के रूप में, जो दक्षिण के मूर्धाभिषिक्त राजाओं के लिए प्रयुक्त होती थी।
  2. जनपद के रूप में, जैसा कि अशोक के शिलालेख संख्या 13 में प्रयुक्त हुआ है, जो कदाचित बरार में था।
  3. व्यक्तिवाचक संज्ञा के रूप में, जैसा कि कन्नौज और मालवा के अनेक राजाओं का नाम था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

सम्बंधित लेख

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय इतिहास कोश |लेखक: सच्चिदानन्द भट्टाचार्य |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 341 |

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भोज&oldid=525279" से लिया गया