मोर गाँव  

मोर गाँव या मोरे गाँव महाराष्ट्र राज्य में मुम्बई-रायचूर लाइन पर पूना से 34 मील पर केडगाँव स्टेशन है। वहाँ से 16 मील मोटर बस का मार्ग है। करहा नदी के तट पर मोरे गाँव है। यहाँ का मुख्य मन्दिर मयूरेश्वर मंदिर है।

  • देश में यह गाणपत्य सम्प्रदाय का मुख्य पीठ है। जिसको भूस्वानन्द मोरेश्वर क्षेत्र कहते हैं।
  • यहाँ गणेश कुंड है जिसे अंकुश तीर्थ भी कहते हैं। इस कुण्ड को गणेशजी ने अंकुश के आघात से प्रगट किया है।
  • यहाँ दूर-दूर से लोग इसमें अस्थि विसर्जन करने आते हैं।
  • यहाँ ब्रह्मा कमण्डलु गंगा (करहा) नदी का उद्गम है।
  • यहाँ कुंड के समीप गणेशजी का मंदिर है।
  • करहा नदी में गया तीर्थ, ओंकारतीर्थ, ऋषितीर्थादि कई तीर्थ सम्मिलित हैं।
  • यहाँ से 5 मील की दूरी पर पश्चिम करहा नदी के तट पर गणेश गया नामक पितृतीर्थ है। वहीं 18 पदांकित गणेश शिला है, जहाँ श्राद्ध होता है[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दूओं के तीर्थ स्थान |लेखक: सुदर्शन सिंह 'चक्र' |पृष्ठ संख्या: 191 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मोर_गाँव&oldid=570405" से लिया गया