रायचूर  

रायचूर
रायचूर थर्मल पावर स्टेशन
विवरण 'रायचूर' दक्षिण-पश्चिमी भारत में स्थित कर्नाटक का प्रसिद्ध शहर है। 1489 ई. में रायचूर स्वतंत्र बीजापुर राज्य की पहली राजधानी बना था।
राज्य कर्नाटक
ज़िला रायचूर
प्रसिद्धि ऐतिहासिक पर्यटन स्थल
एस.टी.डी. कोड 91 8532
संबंधित लेख कर्नाटक, कर्नाटक पर्यटन, कर्नाटक की संस्कृति, कर्नाटक युद्ध
जनसंख्या 232,456 (2011)
पिन 584101-103
अद्यतन‎

रायचूर शहर, पूर्वी कर्नाटक (भूतपूर्व मैसूर) राज्य, दक्षिण-पश्चिमी भारत में स्थित है। यहाँ पर आसपास के मैदान से 88 मीटर ऊपर एक पहाड़ी पर एक दुर्ग-महल (1294 ई.) और एक क़िला (लगभग 1300 ई.) स्थित है। 1489 में रायचूर स्वतंत्र बीजापुर राज्य की पहली राजधानी बना।

इतिहास

रायचूर का मुख्य ऐतिहासिक स्मारक यहाँ का दुर्ग है, जिसे वारंगल नरेश के मंत्री गोरे गंगायरुड्डी वारु ने 1294 ई. में बनवाया था। यह सूचना एक विशाल पाषाण फलक पर उत्कीर्ण अभिलेख से मिलती है। प्रारम्भ में रायचूर में हिन्दू तथा जैन राजवंशों का राज था। पीछे बहमनी सल्तनत का यहाँ पर क़ब्ज़ा हो गया। 15वीं शती के अन्त में बहमनी राज्य की अवनति होने पर बीजापुर के सुल्तान ने रायचूर पर अधिकार कर लिया और तत्पश्चात् औरंगज़ेब द्वारा बीजापुर रियासत के मुग़ल साम्राज्य में मिला लिए जाने पर यह नगर भी इस साम्राज्य का एक अंग बन गया। इसी समय रायचूर के क़िले में मुग़ल सेनाओं का शिविर बनाया गया था।

क़िले के पश्चिमी दरवाज़े के पास ही एक सुन्दर भवन के अवशेष हैं। क़िला दो प्राचीरों से घिरा हुआ है। भीतरी प्राचीर और उसके प्रवेश द्वार इब्राहीम आदिलशाह प्रथम ने 1549 ई. के लगभग बनाए थे। प्राचीरों के तीन ओर एक गहरी खाई है और दक्षिण की ओर एक पहाड़ी। ये दीवारें बारह फुट लम्बे और तीन फुट मोटे प्रस्तर खण्डों से बनी हैं। ये पत्थर बिना चूने या मसाले के परस्पर जुड़े हुए हैं। रायचूर की जामा मस्जिद 1618 ई. में बनी थी। एक मीनार नाम की मस्जिद महमूद शाह बहमनी के काल (919 हिजरी) में बनी थी। यह सूचना एक फ़ारसी अभिलेख से प्राप्त होती है जो इसकी देहली पर ख़ुदा हुआ है। मस्जिद में केवल एक ही मीनार है। जिसकी ऊँचाई 65 फुट है। यह मस्जिद के दक्षिण-पूर्वी कोने में स्थित है। इसमें दो मंज़िलें हैं। मीनार ऊपर की ओर पतली है और शीर्ष पर बहमनी शैली के गुम्बद से ढकी हुई है। इस मस्जिद के पास यतीमशाह की मस्जिद तथा एक दरवाज़ा है। अन्य दरवाज़ों में नौरंगी दरवाज़ा हिन्दूकालीन जान पड़ता है। इसके एक बुर्ज़ पर एक नाग-राजा की मूर्ति है, जिसके सिर पर पंचमुखी सर्प का मुकुट है।

उद्योग और व्यापार

अब यह मध्य रेलवे पर एक व्यावसायिक केन्द्र है। उत्पादों में तिलहन, कपास और साबुन शामिल है।

शिक्षण संस्थान

इसके वाणिज्य महाविद्यालय और लक्ष्मी वेंकटेश देसाई महाविद्यालय धारवाड़ के कर्नाटक विश्विविद्यालय से सम्बद्ध हैं।

विद्युत निगम

राष्ट्रीय तापविद्युत निगम एक एक संयत्र इस इलाक़े के लिए बिजली उत्पादन करता है।

जनसंख्या

2011 की गणना के अनुसार रायचूर शहर की जनसंख्या 232,456 है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=रायचूर&oldid=591266" से लिया गया