ये जो है हुक़्म मेरे पास न आए कोई -दाग़ देहलवी  

ये जो है हुक़्म मेरे पास न आए कोई -दाग़ देहलवी
दाग़ देहलवी
कवि दाग़ देहलवी
जन्म 25 मई, 1831
जन्म स्थान दिल्ली
मृत्यु 1905
मृत्यु स्थान हैदराबाद
मुख्य रचनाएँ 'गुलजारे दाग़', 'महताबे दाग़', 'आफ़ताबे दाग़', 'यादगारे दाग़', 'यादगारे दाग़- भाग-2'
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
दाग़ देहलवी की रचनाएँ
  • ये जो है हुक़्म मेरे पास न आए कोई -दाग़ देहलवी

ये जो है हुक़्म मेरे पास न आए कोई
इसलिए रूठ रहे हैं कि मनाए कोई।

    ये न पूछो कि ग़मे-हिज्र में कैसी गुज़री
    दिल दिखाने का हो तो दिखाए कोई।

हो चुका ऐश का जलसा तो मुझे ख़त पहुँचा
आपकी तरह से मेहमान बुलाए कोई।

    तर्के-बेदाद की तुम दाद न पाओ मुझसे
    करके एहसान, न एहसान जताए कोई।

क्यों वो मय-दाख़िले-दावत ही नहीं ऐ वाइज़
मेहरबानी से बुलाकर जो पिलाए कोई।

    सर्द-मेहरी से ज़माने के हुआ है दिल सर्द
    रखकर इस चीज़ को क्या आग लगाए कोई।

आपने दाग़ को मुँह भी न लगाया, अफ़सोस
उसको रखता था कलेजे से लगाए कोई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ये_जो_है_हुक़्म_मेरे_पास_न_आए_कोई_-दाग़_देहलवी&oldid=332401" से लिया गया