विन्सेंट वैन गो  

विन्सेंट वैन गो

विन्सेंट वैन गो (अंग्रेज़ी: Vincent van Gogh, 30 मार्च, 1853; मृत्यु- 29 जुलाई, 1890) नीदरलैण्ड के प्रसिद्ध चित्रकारों में से एक थे। उनकी पर-प्रभाववादी चित्रकारी ने 20वीं शताब्दी की आधुनिक कला पर अमिट छाप छोड़ी। उपन्यास 'लस्ट फ़ॉर लाइफ़' वर्ष 1934 में उपन्यासकार इर्विंग स्टोन ने लिखी थी। यह प्रसिद्ध डच चित्रकार विन्सेंट वैन गो के जीवन पर आधारित है।

  • विन्सेंट वैन गो के चित्र विशद रंगों और संवेदनाओं से भरे हैं। जीवनभर उन्हें कोई सम्मान नहीं मिला, बल्कि वे मानसिक रोगों से लड़ते रहे, अपना कान तक काट डाला और अंततः 37 वर्ष की आयु में गोली मारकर उन्होंने आत्महत्या कर ली।
  • मृत्योपरांत विन्सेंट वैन गो की ख्याति बढ़ती ही गई और आज उन्हें संसार के महानतम चित्रकारों में गिना जाता है और आधुनिक कला के संस्थापकों में से एक माना जाता है।
  • विन्सेंट वैन गो ने 28 वर्ष की आयु में चित्रकारी करना शुरू कर दिया था और जीवन के अंतिम दो वर्षों में अपनी सबसे महत्त्वपूर्ण रचनाएं उन्होंने बनाईं।
  • नौ साल के समय में विन्सेंट वैन गो ने 2000 से अधिक चित्र बनाए, जिनमें लगभग 900 तैल-चित्र शामिल हैं।
  • उनके द्वारा रचित स्वयं-चित्र, परिदृश्य, छवियाँ और सूरजमुखी विश्व की सबसे प्रसिद्ध और महंगी कलाकृतियों में शामिल हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विन्सेंट_वैन_गो&oldid=615255" से लिया गया