विश्वनाथप्रसाद मिश्र  

विश्वनाथप्रसाद मिश्र (जन्म: 1906 - मृत्यु: 1982) मध्ययुगीन साहित्य के व्याख्याता, अध्येता, समीक्षक और अनुसंधानवेत्ता थे।

  • आचार्य विश्वनाथप्रसाद मिश्र का जन्म 1906 में हुआ।
  • पंद्रह वर्ष की उम्र में महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन से प्रभावित होकर पढ़ाई छोड़ी, क्रांतिकारी आंदोलन में प्रच्छन्न रूप से सक्रिय हुए।
  • कंपोजीटर, प्रूफरीडर बनके जीविकोपार्जन किया।
  • विश्वनाथप्रसाद मिश्र ने एम.ए. संस्कृत के बाद एम.ए. (हिन्दी) 1936 में प्रथम श्रेणी में प्रथम किया।
  • मदन मोहन मालवीय जी की प्रेरणा से डी. लि.ट्. और वहीं काशी विश्वविद्यालय में अध्यापक रहे।
  • काशी नागरी प्रचारिणी सभा के संपादक और साहित्यमंत्री रहे।
  • विश्वनाथप्रसाद मिश्र ने शताधिक ग्रंथों का कुशल सम्पादन किया है।
  • 1953 में मगध विश्वविद्यालय में प्रोफेसर तथा अध्यक्ष भी रहे।
  • विक्रम विश्वविद्यालय से सम्मानार्थ डी. लिट्. दी गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=विश्वनाथप्रसाद_मिश्र&oldid=515771" से लिया गया