सोबरांव का युद्ध  

सोबरांव का युद्ध 10 फ़रवरी, 1846 ई. को लड़ा गया था। यह 'प्रथम सिक्ख युद्ध' (1845-1846 ई.) के अंतर्गत लड़ा गया पाँचवाँ और निर्णायक युद्ध था।

  • अंग्रेज़ों के क़ब्ज़े वाले सतलुज नदी के पूर्वी तट पर सिक्खों ने मोर्चा संभाला हुआ था। उनके बच निकलने का एकमात्र रास्ता एक नौका पुल था।
  • जमकर हुई गोलाबारी के बाद सिक्खों के मोर्चे तहस-नहस हो गए।
  • लालसिंह और तेजा सिंह के विश्वासघात के कारण ही सिक्खों की पूर्णतया हार हुई, जिन्होंने सिक्खों की कमज़ोरियों का भेद अंग्रेज़ों को दे दिया था।
  • नौका पुल के ध्वस्त होने से बचने का रास्ता मौत के रास्ते में तब्दील हो गया।
  • नदी पार करने की कोशिश में 10,000 से अधिक सिक्खों की मृत्यु हो गई।
  • सोबरांव के इस युद्ध में अंग्रेज़ों को भी भारी नुक़सान उठाना पड़ा। उनके 2,383 लोग मारे गए या घायल हुए।
  • सिक्खों द्वारा और प्रतिरोध असंभव हो गया तथा पश्चिमोत्तर भारत का सिक्ख राज्य ब्रिटिश प्रभाव में आ गया।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-6 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 118 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सोबरांव_का_युद्ध&oldid=515906" से लिया गया