अनुशासनहीनता और भ्रष्टाचार -काका हाथरसी  

अनुशासनहीनता और भ्रष्टाचार -काका हाथरसी
काका हाथरसी
कवि काका हाथरसी
जन्म 18 सितंबर, 1906
जन्म स्थान हाथरस, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 18 सितंबर, 1995
मुख्य रचनाएँ काका की फुलझड़ियाँ, काका के प्रहसन, लूटनीति मंथन करि, खिलखिलाहट आदि
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
काका हाथरसी की रचनाएँ
  • अनुशासनहीनता और भ्रष्टाचार -काका हाथरसी

बिना टिकट के ट्रेन में चले पुत्र बलवीर,
जहाँ ‘मूड’ आया वहीं, खींच लई ज़ंजीर,
खींच लई ज़ंजीर, बने गुंडों के नक्कू,
पकड़ें टी. टी. गार्ड, उन्हें दिखलाते चक्कू,
गुंडागर्दी, भ्रष्टाचार बढ़ा दिन-दूना,
प्रजातंत्र की स्वतंत्रता का देख नमूना॥

 
















संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनुशासनहीनता_और_भ्रष्टाचार_-काका_हाथरसी&oldid=342619" से लिया गया