अन्तर्दशाह  

अन्तर्दशाह हिन्दू धर्म ग्रंथों और मान्यताओं के अनुसार किसी मृतक की आत्मा की शांति के लिए किये जाने कर्म को कहा जाता है। हिन्दू शास्त्रानुसार मृत्यु के पश्चात् दस दिनों तक मृतक की आत्मा प्रेत रूप में रहती है। इन दस दिनों में उसकी शान्ति के लिए जो कर्म किये जाते हैं, उन्हें ही 'अन्तर्दशाह' कहते हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ,कृत्यकल्पतरू-श्राद्धखण्ड

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अन्तर्दशाह&oldid=595880" से लिया गया