आहुति  

आहुति से तात्पर्य है कि यज्ञकुण्ड में देवताओं के उद्देश्य से जो हवि का प्रक्षेप किया जाता है, उसे ही 'आहुति' कहते हैं।

  • आहुति द्रव्य को 'मृंगी मुद्रा' (शिशु के मुख में कौर देने की अँगुलियों के आकार) से अग्नि में डालना चाहिए।
  • हिन्दू मान्यताओं के अनुसार यह माना जाता है कि देवताओं को हवि द्वारा ही शक्ति प्राप्त होती है।


इन्हें भी देखें: पूर्णाहुति


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आहुति&oldid=469078" से लिया गया