अब्दुल कलाम का अंतिम समय  

अब्दुल कलाम विषय सूची
अब्दुल कलाम का अंतिम समय
Abdul-Kalam.jpg
पूरा नाम अवुल पकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम
अन्य नाम मिसाइल मैन
जन्म 15 अक्तूबर, 1931

(आयु- 88 वर्ष)

जन्म भूमि रामेश्वरम, तमिलनाडु
मृत्यु 27 जुलाई, 2015
मृत्यु स्थान शिलांग, मेघालय
अभिभावक जैनुलाब्दीन
पति/पत्नी अविवाहित
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि भारतीय मिसाइल कार्यक्रम के जनक
पद भारत के 11वें राष्ट्रपति
कार्य काल 25 जुलाई, 2002 से 25 जुलाई, 2007
शिक्षा स्नातक
विद्यालय मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
भाषा हिन्दी, अंग्रेज़ी, तमिल
पुरस्कार-उपाधि भारत रत्न (1997), पद्म विभूषण (1990), पद्म भूषण (1981), इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार एवं देशी-विदेशी कई विश्वविद्यालयों से मानद डॉक्टरेट की उपाधि
संबंधित लेख अब्दुल कलाम के अनमोल वचन
पुस्तकें 'विंग्स ऑफ़ फ़ायर' (जीवनी), 'इण्डिया 2020- ए विज़न फ़ॉर द न्यू मिलेनियम', भारत की आवाज़, टर्निंग प्वॉइंट्स, हम होंगे कामयाब
अन्य जानकारी डॉक्टर कलाम ने भारत के विकास स्तर को 2020 तक विज्ञान के क्षेत्र में अत्याधुनिक करने के लिए एक विशिष्ट सोच प्रदान की। यह भारत सरकार के 'मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार' भी रहे।
बाहरी कड़ियाँ आधिकारिक वेबसाइट

डॉ. कलाम अंतिम समय में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग, भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद तथा भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर में आगंतुक प्रोफेसर रहे। साथ ही भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान तिरूवंतपुरम् में कुलाधिपति तथा अन्ना विश्वविद्यालय चेन्नई में एयरो इंजीनियरिंग के प्रध्यापक के पद में नियुक्त रहे।

निधन

27 जुलाई, 2015 की शाम अब्दुल कलाम 'भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग' में 'रहने योग्य ग्रह' पर एक व्याख्यान दे रहे थे, तब उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वे बेहोश होकर गिर पड़े। लगभग 6:30 बजे गंभीर हालत में उन्हें बेथानी अस्पताल में आईसीयू में ले जाया गया और दो घंटे के बाद उनकी मृत्यु की पुष्टि कर दी गई। अस्पताल के सीईओ जॉन साइलो के अनुसार- "जब कलाम को अस्पताल लाया गया, तब उनकी नब्ज और रक्तचाप साथ छोड़ चुके थे। अपने निधन से लगभग 9 घण्टे पहले ही उन्होंने ट्वीट करके बताया था कि- "वह शिलोंग आईआईएम में लेक्चर के लिए जा रहे हैं।" कलाम अक्टूबर, 2015 में 84 साल के होने वाले थे। मेघालय के राज्यपाल वी. षडमुखनाथन, अब्दुल कलाम के हॉस्पिटल में प्रवेश की खबर सुनते ही सीधे अस्पताल पहुँच गए थे, बाद में षडमुखनाथन ने बताया कि कलाम को बचाने की चिकित्सा दल की कोशिशों के बाद भी शाम 7:45 पर उनका निधन हो गया। कलाम के निधन का समाचार पाकर पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई।

अंतिम संस्कार

मृत्यु के तुरंत बाद डॉ. कलाम के शरीर को भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर से शिलोंग से गुवाहाटी लाया गया, जहाँ से अगले दिन 28 जुलाई को पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का पार्थि‍व शरीर वायुसेना के विमान सी-130जे हरक्यूलिस से दिल्ली लाया गया। लगभग 12:15 पर विमान पालम हवाईअड्डे पर उतरा। सुरक्षा बलों ने पूरे राजकीय सम्मान के साथ डॉ. कलाम के पार्थिव शरीर को विमान से उतारा। वहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल व तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने इसकी अगवानी की और कलाम के पार्थिव शरीर पर पुष्पहार अर्पित किये। इसके बाद तिरंगे में लिपटे डॉ. कलाम के पार्थि‍व शरीर को पूरे सम्मान के साथ, एक गन कैरिज में रख उनके आवास 10 राजाजी मार्ग पर ले जाया गया। यहाँ पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सहित अनेक गणमान्य लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। भारत सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन के मौके पर उनके सम्मान के रूप में सात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की।

29 जुलाई की सुबह वायुसेना के विमान सी-130जे से भारतीय ध्वज में लिपटे डॉ. कलाम के शरीर को पालम एयर बेस पर ले जाया गया, जहां से इसे मदुरै भेजा गया। विमान दोपहर तक मदुरै हवाई अड्डे पर पहुंचा। उनके पार्थिव शरीर को तीनों सेनाओं के प्रमुखों और राष्ट्रीय व राज्य के गणमान्य व्यक्तियों; मनोहर पर्रीकर, वेंकैया नायडू, पॉन राधाकृष्णन और तमिलनाडु और मेघालय के राज्यपाल के.रोसैया और वी. षडमुखनाथन ने हवाई अड्डे पर प्राप्त किया। एक संक्षिप्त समारोह के बाद डॉ. कलाम के शरीर को एक वायु सेना के हेलिकॉप्टर में मंडपम भेजा गया। मंडपम से उनके शरीर को उनके गृह नगर रामेश्वरम एक आर्मी ट्रक में भेजा गया। अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए उनके शरीर को स्थानीय बस स्टेशन के सामने एक खुले क्षेत्र में प्रदर्शित किया गया ताकि जनता उन्हें आखरी श्रद्धांजलि दे सके। 30 जुलाई, 2015 को पूर्व राष्ट्रपति को पूरे सम्मान के साथ रामेश्वरम के पी करूम्बु ग्राउंड में दफ़ना दिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, तमिलनाडु के राज्यपाल और कर्नाटक, केरल और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों सहित 3,50,000 से अधिक लोगों ने डॉ. कलाम के अंतिम संस्कार में भाग लिया।[1]

श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्विटर पर अपने शोक संदेश कहा कि भारत एक महान् वैज्ञानिक, अदभुत राष्ट्रपति और एक प्रेरणादायक व्यक्ति की मृत्यु पर शोक प्रकट करता है।
संगीतकार ए. आर. रहमान ने उनके निधन पर कहा, "डॉक्टर कलाम, जब आप राष्ट्रपति बने तो आपने भारतीयों को 'उम्मीद' शब्द के नए मायने दिए।"
आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने ट्वीट किया- 'महान लोगों के महान् सपने हमेशा आगे पहुंचते हैं। एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि।'



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अबुल पाकिर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम (हिंदी) home.iitk.ac.in। अभिगमन तिथि: 04 फ़रवरी, 2017।
"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अब्दुल_कलाम_का_अंतिम_समय&oldid=609206" से लिया गया