अवाकीर्ण  

'जुहाव धृतराष्ट्रस्य राष्टं नरपते: पुरा,
अवाकीर्णे सरस्वत्यास्तीर्थें प्रज्वाल्य पावकम्।'[1]

  • इस उद्धरण से ज्ञात होता है कि अवाकीर्ण, सरस्वती नदी के तटवर्ती तीर्थों में गिना जाता था।
  • इसकी यात्रा बलराम ने की थी।
  • प्रसंग क्रम से जान पड़ता है कि अवाकीर्ण पंजाब में कहीं स्थित होगा।



  1. महाभारत शल्य पर्व, 41, 12

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 48| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अवाकीर्ण&oldid=627299" से लिया गया