श्रीकंठ  

श्रीकंठ 'हर्षचरित' में उल्लिखित एक प्राचीन जनपद, जहां प्रभाकरवर्धन (हर्षवर्धन के पिता) की राजधानी 'स्थानीश्वर' या 'स्थानेश्वर' (थानेश्वर) स्थित थी।[1]

  • इसका विस्तार पूर्वी पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश तथा दिल्ली राज्य के कुछ भाग में था।
  • 'हर्षचरित' के तृतीय उच्छ्वास में इस जनपद की समृद्धि तथा वैभव का काव्यात्मक वर्णन किया गया है।
  • बाण ने इस देश में गन्ना, धान तथा गेहूँ की कृषि का उल्लेख किया है। इसके अतिरिक्त तरह-तरह के द्राक्षा तथा दाड़िम के उद्यान यहाँ की शोभा बढ़ाते थे। वहाँ की धरती केलों के निकुंजों से श्यामल दीखती थी। पद-पद पर ऊंटों के झुण्ड थे। सहस्त्रों कृष्ण-मृगों से वह देश चित्र-विचित्र लगता था।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 918 |
  2. हर्षचरित, हिंदी अनुवाद, सूर्यनारायण चैधरी, पृ, 119

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=श्रीकंठ&oldid=612634" से लिया गया