ओंकार मांधाता  

ओंकार मांधाता ओंकारेश्वर का ही दूसरा नाम है:- देखें ओंकारेश्वर

ओंकार मांधाता या 'ओंकारेश्वर' मध्य प्रदेश में खंडवा के निकट नर्मदा नदी में एक पहाड़ी द्वीप है।

  • मांधाता को अमरेश्वर भी कहते हैं।
  • यह स्थान प्राचीन काल से ही तीर्थ के रूप में प्रख्यात है।
  • जनश्रुति है कि राजा मांधाता ने इस द्वीप में शिव की आराधना की थी।
  • द्वीप नर्मदा और उसकी एक उपधारा-कावेरी-से घिरा है।
  • इसका आकार ओंकार[1] के समान है जो संभवत: इसके नामकरण का कारण है।
  • इसके आस-पास अनेक छोटे-मोटे तीर्थस्थल हैं।
  • स्कंद पुराण रेवाखंड[2] में इसका वर्णन है।
  • अमरेश्वर के शिव की द्वादश ज्योतिर्लिंगों में गणना है।
  • यह स्थान पश्चिम रेलवे के अजमेर-खंडवा मार्ग पर ओंकारेश्वर स्टेशन से सात मील

(लगभग 11.2 कि.मी.)

दूर है।  


  1. प्रणव
  2. स्कंद पुराण रेवाखंड, 28, 133

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 115| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ओंकार_मांधाता&oldid=628657" से लिया गया