कजंगल  

कजंगल पश्चिम बंगाल में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह विस्तृत पहाड़ी क्षेत्र अंग के पूर्व में स्थित था।

  • राजमहल बंगाल का प्राचीन नाम था। हर्षकाल [1] यहां एक स्वतंत्र राज्य था, किंतु महाराज हर्ष के प्रभाव कर अंतर्गत था।
  • महावग्ग में इसे महाशाल नामक ब्राह्मण गाँव के आगे मध्य देश की पूर्वी सीमा बताया गया है।
  • मिलिन्दपन्हो के अनुसार यह एक ब्राह्मण गाँव था, जो प्रसिद्ध बौद्ध दार्शनिक नागसेन का जन्म स्थान था।
  • अंगुत्तर निकाय में उल्लेख है कि महात्मा बुद्ध यहाँ आये थे।
  • कजंगल का युवानच्वांग ने का-चु-वेन-की-लो के रूप में उल्लेख किया है।
  • चीनी यात्री ने लिखा है कि महाराज हर्षवर्धन ने अपनी पूर्वी देशों की विजय- यात्रा में हर्ष ने राजसभा की थी। चीनी यात्री यहाँ से पुण्ड्रवर्धन गया था।
  • कजंगल के कंजुगिरि, कांकजोल आदि नाम भी उपलब्ध हैं।
  • मध्ययुग में इसे उगमहल भी कहा जाता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


  1. 630 ई. के लगभग

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 125| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कजंगल&oldid=628998" से लिया गया