राढ़  

राढ़ अथवा 'राढ़ी' प्राचीन और मध्य काल में, विशेषकर सेनवंशीय नरेंशों के शासन काल में, बंगाल के चार प्रांतों में से एक था। ये प्रांत थे- 'वरेंद्र', 'बागरा', 'बंग' और 'राढ़'।

  • कुछ विद्वानों ने जैन ग्रंथ 'आयरंगसुत्त' में उल्लिखित 'लाढ़' नामक प्रदेश का अभिज्ञान राढ़ से किया है, किंतु यह सही नहीं जान पड़ता।[1]
  • सिंहल देश में सात सौ साथियों के सहित जाकर बस जाने वाला राजकुमार विजय, राढ़ देश का ही निवासी माना जाता है।
  • राढ़, पश्चिमी बंगाल का एक भाग, विशेषतः वर्दमान कमिश्नरी का परिवर्ती प्रदेश था।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भंडारकर, अशोक, पृ. 37
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 785 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=राढ़&oldid=516603" से लिया गया