कुमारस्वामी मंदिर  

कुमारस्वामी मन्दिर दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित है। दक्षिण भारत के 6 प्रधान सुब्रह्मण्य तीर्थों में यह प्रधान माना जाता है। बंगलोर-पूना लाइन के स्टेशन हुबली से मोटर बसें सुण्डूर तक जाती है। सुण्डूर से आगे 6 मील पैदल मार्ग है।

यहाँ कौंचगिरि पर स्वामी कार्तिक का भव्य मंदिर है। यह मंदिर विशाल है। पाँच गोपुर पार करने पर विस्तृत प्रांगण है। उसके बाद एक गोपुर पार करके निज मंदिर है। मंदिर के आसपास गणेशजी के तथा अन्य भी तीन-चार मंदिर हैं। गणेशजी से विवाद में हारकर स्वामी कार्तिक कैलास से श्रीशैल पर आ गये। उमा महेश्वर जब पुत्र से मिलने वहाँ आये तो यहाँ क्रौंचगिर पर आ बसे। पुत्र स्नेहवश शिव पार्वती श्रीशैल पर ही रह गये और स्वामी कार्तिक का मुख्य स्थान पर पर्वत बन गया[1]



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दूओं के तीर्थ स्थान |लेखक: सुदर्शन सिंह 'चक्र' |पृष्ठ संख्या: 178 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुमारस्वामी_मंदिर&oldid=569757" से लिया गया