खरताल  

खरताल
Khartal
  • खरताल एक घन वाद्य है।
  • खरताल लोहे के दो खण्ड होते हैं, प्रत्येक एक वित्ता दीर्घ, एक आँगुल परिमाण में स्थूल, चौकोन गड़न है, जो केवल दोनों किनारों पर क्रमश: पतले होते हैं।
  • इस प्रकार के दो लौहखण्ड दायीं मुठ्ठी में रखकर परस्पर आघात से बजाये जाते हैं।
  • यह प्रधानत: 'कंसर्ट' वाद्य में व्यवहृत है।
  • भजन गीत के समय इसका एकाकी वादन भी होता है।
  • कोई युगल रूप में दोनों हाथों से भी खरताल बजाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=खरताल&oldid=172864" से लिया गया