नादस्वरम  

नादस्वरम दक्षिण भारत का दोहरा नरसल वाद्य यंत्र, नफ़ीरी और शहनाई से संबद्ध है।

  • यह फ़ारसी सुर्ना (इस नाम से उत्तर भारत में अब भी ज्ञात) से आया है तथा इसे आमतौर पर जोड़े में बनाया जाता है, जिससे दोहरी शहनाई का आभास होता है।
  • कई बार कई वादक रागात्मक अनुक्रम में बारी-बारी से बजाते है, जिसकी संगत ओट्टू की पार्श्व झंकार करती है, जो स्वयं भी एक तरह का नादस्वरम है, जिसमें सभी या अधिकतर छेद मोम से बंद होते हैं।
  • ज़ोरदार एवं तीक्ष्ण सुर के कारण इस वाद्य यंत्र को आमतौर पर खुले में बजाया जाता है, उदाहरणस्वरूप, शादी, जुलूस, त्योहार तथा अन्य मौक़ो पर, जिनमें आनुष्ठानिक संगीत-समूह की आवश्यकता हो।
  • नादस्वरम ने दक्षिण भारत के वाद्य-वृंद मंच पर मान्यता प्राप्त कर ली है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नादस्वरम&oldid=298380" से लिया गया