गोविन्द चतुर्थ  

  • 918 ई. में गोविन्द चतुर्थ मान्यखेट के राजसिंहासन पर आरूढ़ हुआ।
  • इन्द्र तृतीय ने राष्ट्रकूट की शक्ति का पुनरुद्धार करने में जो सफलता प्राप्त की थी, वह गोविन्द चतुर्थ के निर्बल शासन में नष्ट हो गई।
  • वेंगि के चालुक्यों ने इस समय बहुत ज़ोर पकड़ा, और उनके आक्रमणों के कारण राष्ट्रकूट राज्य की शक्ति बहुत क्षीण हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गोविन्द_चतुर्थ&oldid=285861" से लिया गया